class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ये है स्वाद फलूदे का

ये है स्वाद फलूदे का

इस वीकएंड पर यदि आप फिल्म देखने का प्लान बना रहे है तो दरियागंज आना एक अच्छा विकल्प हो सकता है। चूंकि फिल्म देखने के लिए यहां गोलचा थियेटर तो है ही, साथ ही पास में है गोलचा कॉर्नर का मेहता रेस्तरां, जहां का फलूदा न केवल आपको इस चिलचिलाती गर्मी से राहत देगा, बल्कि केवल एक गिलास फलूदे में आपका पेट भी आसानी से भर जाएगा। मात्र 35 रुपये प्रति ग्लास में दूध, बादाम, काजू, पिस्ता, मेवे और अरारोट से बनी सिवइयों से तैयार यह फलूदा काफी स्वादिष्ट है। चम्मच से जब आप इसका स्वाद चखेंगे तो यह इतना गाढ़ा होता है कि खाते-खाते आपकी चम्मच पर ही जम जाएगा।

इस रेस्तरां के मालिक विजय मेहता हैं, जिनके पिता स्वर्गीय रामचन्द्र ने दरियागंज में फलूदे की शुरुआत की। सन् 1973 के अपने शुरुआती समय में विजय के पिता राम चन्द्र ने गोलचा कॉर्नर पर रेहड़ी पर 75 पैसे प्रति गिलास में फलूदा लगाना शुरू किया, जिसे लोगों ने काफी पसंद किया। फिर इसी वर्ष उन्होंने गोलचा कॉर्नर की यह दुकान खरीद ली। लेकिन 1976 में उनकी अचानक मृत्यु के बाद दुकान की जिम्मेदारी आठवीं में पढने वाले विजय पर आ गई। विजय ने अपनी मेहनत और लगन से धीरे-धीरे फलूदे को सबका फेवरेट बनाया और इस दुकान को रेस्तरां मे बदल दिया। विजय कहते हैं, ‘यह दुकान मेरी कर्मभूमि है और इसकी तरक्की ही मेरी मंजिल, जिसे मैंने अपने परिश्रम के बूते पाया है।’ इनके फलूदे का स्वाद चखने लोग दूर-दूर से यहां आते हैं। आस-पास सभी जगह ऑफिस ही ऑफिस हैं, जहां का स्टाफ लंच टाइम में यहां आता ही है। साथ ही आस-पास घूमने आए लोग भी खासी भीड़ लगाए रहते हैं।

1990 में ग्राहकों की डिमांड व सुविधा के लिए विजय ने इसे रेस्तरां में तब्दील किया। अब यहां ग्राउंड फ्लोर पर फलूदे व अन्य ठंडाई की दुकान है और फर्स्ट फ्लोर पर है रेस्तरां। दुकान पर मिलने वाली अन्य चीजों में रसमलाई, रबड़ी फलूदा, लस्सी भी खासी स्वाद है और जो गर्मी मे आपको राहत पहुंचाएगी।       

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ये है स्वाद फलूदे का