class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सैन्य अभियान के विरोध में आए इमरान खान

सैन्य अभियान के विरोध में आए इमरान खान

पाकिस्तान में विपक्ष के नेता और क्रिकेट लीजेंड इमरान खान ने कहा है कि पश्चिमोत्तर क्षेत्र में जारी सैन्य अभियान के कारण देश के लिए ही खतरा पैदा हो गया है।

इसके साथ ही खान ने अमेरिका से अनुरोध किया कि वह अफगानिस्तान में अपनी गतिविधियां धीरे-धीरे सीमित करे। वाशिंगटन की यात्रा पर आए खान ने कहा कि पाकिस्तानी सेना के सामने नैतिकता का संकट है। एक अनुमान के अनुसार अशांत पश्चिमोत्तर क्षेत्र में अभियान में शामिल करीब 25 प्रतिशत जवान उसी पश्तून समुदाय के हैं जिसके स्थानीय लोग हैं।

वाशिंगटन थिंकटैंक मिडल ईस्ट इंस्टीट्यूट में खान ने कहा कि पाकिस्तान संकट में है।  सरकारी सैनिक कब तक अपने लोगों के खिलाफ ही युद्ध करते रहेंगे। खान ने सीनेटर जॉन कैरी सहित कई सांसदों से भेंट की और कहा कि अमेरिका पाकिस्तान के पड़ोसी देश अफगानिस्तान में पहले अपना सैन्य अभियान समाप्त करे। अमेरिका में 9/11 की घटना के बाद अफगानिस्तान में सैन्य अभियान शुरू किया गया था।

पूर्व क्रिकेटर इमरान खान ने कहा कि अमेरिका को अफगानिस्तान से बाहर निकलने की रणनीति पर विचार करना चाहिए। जब तक अफगानिस्तान में कुव्यवस्था है या वहां संघर्ष जारी है, पाकिस्तान के कबायली इलाके में शांति नहीं हो सकती। पाकिस्तानी सेना सात हफ्ते से अधिक समय से अशांत पश्चिमोत्तर प्रांत में कट्टरपंथियों के खिलाफ अभियान चला रही है। इसके पहले तालिबान के लड़ाके राजधानी इस्लामाबाद के करीबी इलाकों तक पहुंच गए थे।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सैन्य अभियान के विरोध में आए इमरान खान