class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कोश्यारी ने राज्यसभा से इस्तीफा वापस लिया

कोश्यारी ने राज्यसभा से इस्तीफा वापस लिया

भारतीय जनता पार्टी  के वरिष्ठ नेता तथा उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी ने राज्यसभा की सदस्यता से गुरुवार को इस्तीफा वापस ले लिया। पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह के आवास पर रात हुई एक बैठक में श्री सिंह के अनुरोध पर कोश्यारी ने इस्तीफा वापस ले लिया।

बैठक में अन्य लोगों के अलावा पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुख्तार अब्बास नकवी, संगठन महामंत्री रामलाल तथा अन्य महासचिव विजय गोयल मौजूद थे। उत्तराखंड में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर असंतुष्टो की अगुवाई कर रहे भगत सिंह कोश्यारी ने बुधवार को राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था।

बैठक के बाद मुख्तार अब्बास नकवी ने पत्रकारों से कहा कि पार्टी का अनुशासित सिपाही होने के नाते पार्टी अध्यक्ष के आग्रह पर कोश्यारी ने राज्यसभा की सदस्यता से दिया हुआ अपना इस्तीफा वापस ले लिया है। उन्होंने कहा कि कोश्यारी ने पार्टी संगठन के काम के लिए अपना इस्तीफा दिया था।

उन्होंने बताया कि बैठक में कोश्यारी को इस बात के लिए राजी कर लिया गया कि पार्टी संगठन के काम के लिए राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने की जरूरत नहीं है। राज्यसभा में रहकर भी वह पार्टी संगठन का काम कर सकते हैं। नकवी ने बताया कि बैठक में सिंह के अनुरोध पर उन्होंने इस्तीफा वापस ले लिया।

 उत्तराखंड में मुख्यमंत्री भुवनचंद्र खंडूरी की कार्यशैली के विरोध और नेतृत्व परिवर्तन की मांग को लेकर पिछले कुछ समय से भाजपा विधायक अभियान चला रहे हैं। इसी मांग पर दबाव बढाने के लिए कोश्यारी ने राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था।

उत्तराखंड में विधायकों के खंडूरी विरोधी अभियान का पार्टी के केन्द्रीय नेतृत्व ने संज्ञान लेकर पिछले महीने नकवी और थावर चन्द्र गहलोत को केन्द्रीय पर्यवेक्षक के रूप में देहरादून भेजा था।

इन दोनों नेताओं ने भाजपा के सभी विधायको से व्यक्तिगत तौर पर सलाह मशविरा किया था और अपनी रिपोर्ट पार्टी अध्यक्ष को सौंपी थी। इसके बावजूद भी नेतृत्व परिवर्तन की मांग पर कोई फैसला नहीं किया गया। इसी मांग पर दबाव बनाने के लिए कोश्यारी ने राज्यसभा से इस्तीफा दे दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कोश्यारी ने राज्यसभा से इस्तीफा वापस लिया