class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली के नर्सिग होम पर लगे गंभीर आरोप, साहिबाबाद पुलिस ने दर्ज नहीं की रिपोर्ट

साहिबाबाद थाना क्षेत्र निवासी युवक की किडनी निकालने का मामला प्रकाश में आया है। कुछ वर्ष पहले युवक को पथरी की शिकायत थी जिसका ऑप्रेशन उसने दिल्ली के नर्सिग होम में कराया। आरोप है कि पथरी के ऑप्रेशन के बहाने डॉक्टरों ने उसकी किडनी ही निकाल ली।

इसका भेद तब खुला जब युवक की दूसरी किडनी ब्लॉक हो गयी। मामले की शिकायत को लेकर पीड़ित थाना साहिबाबाद पंहुचा लेकिन पुलिस ने मामला दिल्ली का बताते हुए रिपोर्ट लिखने से साफ मना कर दिया। शहीद नगर के मकान नंबर सी-773 निवासी देवेन्द्र गुप्ता (45) पुत्र गंगाराम गुप्ता यूपी बॉर्डर स्थित चेक पोस्ट पर एजेंट के यहां काम करता है।

देवेन्द्र की बहन कांति गुप्ता ने बताया कि वर्ष 2001 में देवेन्द्र को पथरी की शिकायत थी। यूपी बॉर्डर स्थित शनि मंदिर के पास स्पेयर पार्ट्स की दुकान चलाने वाले मनोज व उसके पिता लालचंद ने कहा कि शाहदरा के शांति नर्सिंग होम में उनकी जानपहचान है जहां वह देवेन्द्र का इलाज करा देंगे।

दोनों की बात पर भरोसा करके देवेन्द्र को उक्त नर्सिग होम ले जाया गया जहां उसका पथरी का ऑप्रेशन हुआ और चार दिन बाद उसे छुट्टी दे दी गयी। पिछले कुछ माह से देवेन्द्र फिर से बीमार रहने लगा। कांति के मुताबिक उसे दिल्ली के जीटीबी अस्पताल ले जाया गया जहां से डॉक्टरों ने एम्स रेफर कर दिया गया।

एम्स में अल्ट्राससउंड की रिपोर्ट आने पर देवेन्द्र व उसके परिजनों के पैरों तले की जमीन खिसक गयी। वहां डॉक्टरों ने बताया कि देवेन्द्र की एक किडनी में ब्लॉकेज है और दूसर किडनी पहले ही निकाल ली गयी है।

इस पर मनोज व उसके पिता सहित किडनी निकालने के आरोपी डॉक्टर के खिलाफ शिकायत लेकर परिजन साहिबाबाद थाने पंहुचे तो थानाध्यक्ष ने मामला दिल्ली का बताते हुए उन्हें फटकार कर भगा दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ऑप्रेशन किया पथरी का निकाल ली किडनी