class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संश्लेषण और विश्लेषण

संश्लेषण का अर्थ है- अनेक को एक करना, जबकि विश्लेषण का अर्थ है एक को अनेक करना। मनुष्य जब क्षुद्र बुद्घि भावना से प्रेरित होकर कोई काम करता है तो वह दुःख पाता है, वही जब कोई वृहद भाव से काम करता है तब उसे शांति मिलती है। जो क्षुद्र भावना लेकर काम करते हैं, उनका पथ है विश्लेषण का।  जो अनेक को एक करते हैं, उनका रास्ता है संश्लेषण का। अतएव संश्लेषण ही शांति है और विश्लेषण ही मृत्यु है। जब मनुष्य देखेंगे कि दुनिया में कोई अपना नहीं है, तब भीतर हाहाकार शुरू हो जायेगा। दुःख के पीछे कारण है विश्लेषण का और सुख के पीछे कारण है संश्लेषण का। यह जो संश्लेषणात्मक गति, अनेक को एक बनाने का प्रयास है, यही है साधना। साधना ‘मैं’ को बढ़ाते-बढ़ाते अनन्त बना देता है। तब जिधर देखोगे उधर ही ‘मैं’। पुण्यकर्म है संश्लेषण। अनेक को एक बनाते चलो, एक को अनेक नहीं। आत्मा सबके लिए मधुमय है और आत्मा के लिए भी हर वस्तु मधुमय है। तुम्हारे लिए तुम्हारा ‘मैं पन’ जितना प्यारा है दूसरों के लिए उनका ‘मैं’ भी तो उतना ही प्यारा है। एक छोटा सा दृष्टान्त है- एक बार मैंने देखा, किसी एक ऑफिस का चपरासी मेरे एक परिचित व्यक्ति के पास आया। परिचित व्यक्ति ने उसकी तरफ देखा नहीं और चपरासी करीब आधा घण्टा उनके पास खड़ा रहा। उसके बाद उसने कहा, ‘बाबू, यह चिट्ठी आपकी है।’ वे चिल्लाकर बोले- ‘जाओ, चले जाओ, डिस्टर्ब मत करो।’ चपरासी कुछ नहीं बोला। उसके बाद एक दफ्तर में मेरे वही परिचित व्यक्ति एक बार एक चिट्ठी लेकर गये। इस टेबल से उस टेबल घूमते रहे लेकिन चिट्ठी नहीं दे सके और बेचारे परेशान हो गये। वह चपरासी उसी दफ्तर का था। उन्हें देखकर चपरासी ने कहा, ‘बाबू, आइए, यह चिट्ठी फलना बाबू लेंगे।’ बाबू समझ गये कि चपरासी वही था जिससे उन्होंने कहा था, ‘जाओ-जाओ डिस्टर्ब मत करो’ तो वह बाबू शरमा गये। इसलिए दूसरों से व्यवहार करते समय दूसरों के मन की भावना समझ लो- दूसरों का मन क्या चाहता है?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संश्लेषण और विश्लेषण