class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लीजिए हाजिर है चुंबक वाला बैक्टीरिया

यह एक ऐसा बैक्टीरिया है जिसमें चुंबकीय कण पाए जाते हैं और जो भू चुंबकीय क्षेत्र में तैरता है। जव वित्रानियों ने महाराष्ट्र में उल्का पिंड से बनी प्राचीन लोनर झील में चुंबकीय बैक्टीरिया को ढूंढ निकाला है। इस खोज से ब्रहमांड में अन्य कही जीवन की खोज में संभवत: सहायता मिले। 

 वत्रानिकों के लिए रूचि का केंद्र रहे इस चुंबकीय बैक्टीरिया को महाराष्ट्र के बुलढाना जिले की झील से पाया गया जो बसाल्ट चटटानों से बनी अकेली क्षील है। कलाड के यशवंतराय चव्हाण वित्रान कॉलेज के माइक्रोलोजिस्ट महेश चवादार ने बताया कि इस बैक्टीरिया और उल्का पिंड में कुछ संबंध दिखता है। इससे अंतरिक्ष में अन्य कही जीवन की खोज में सहायता मिलेगी। यह खोज करेंट साइंस के हाल के अंक में छपी है।

1975 में पहली बार ऐसे बैक्टीरिया की खोज हुई थी और दुनिया की कुछ प्रयोगशाला में ही ऐसे जीवाणु रखे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लीजिए हाजिर है चुंबक वाला बैक्टीरिया