class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

50 घंटे की मुठभेड़ के बाद डाकू केवट की मौत

50 घंटे की मुठभेड़ के बाद डाकू केवट की मौत

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट जिले में गुरुवार को चकमा देकर भागते डकैत घनश्याम केवट को दूसरे गांव में घेरकर पुलिस ने मार गिराया। पिछले 50 घंटे से जारी मुठभेड़ के बाद केवट मकान की दूसरी मंजिल से निकलकर भागने में सफल रहा। भागने के बाद वह एक नाले में छिप गया था, जहां पुलिस ने उसे घेरकर मार डाला।

इससे पहले उस वक्त पुलिस को बड़ा झटका लगा था जब 50 घंटे से जारी मुठभेड़ के बावजूद डकैत घनश्याम केवट चकमा देने में कामयाब रहा। जिस मकान में वह छिपा था उसे 400 पुलिसवालों ने घेर रखा था। लेकिन वह दो मंजिला मकान से कूद कर भाग गया।

राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक (एडीजी) बृजलाल के नेतृत्व में पिछले 50 घंटे से वहां मुठभेड़ चल रही थी, जिसमें अब तक तीन पुलिसकर्मी शहीद हुए। दो दिन से चित्रकूट का जमौली गांव छावनी में तब्दील हो चुका था।  बृजलाल ने बुधवार देर शाम मौके पर जाकर खुद मोर्चा संभाल लिया था।

गुरुवार को मौके पर जेसीबी मशीन मंगवाई गई थी ताकि पता चलते ही उस मकान को तोड़ दिया जाए, जिसमें डकैत छिपे हैं। मुठभेड़ में तीन पुलिसकर्मियों के शहीद होने के साथ ही पीएसी के आईजी बीके गुप्ता और चित्रकूट क्षेत्र के डीआईजी सुशील कुमार सिंह सहित करीब 10 पुलिसकर्मी घायल हुए। पुलिस के अनुसार 50,000 रूपये के इनामी डकैत घनश्याम केवट का बुंदेलखंड क्षेत्र के करीब 10 जिलों में भय व्याप्त है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:50 घंटे की मुठभेड़ के बाद डाकू केवट की मौत