class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पश्चिम बंगाल में माओवादी हिंसा से निपटने के लिए कोबरा फोर्स रवाना

पश्चिम बंगाल में माओवादी हिंसा से निपटने के लिए कोबरा फोर्स रवाना

पाश्चिम बंगाल में सत्ताधारी माकपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ नक्सली हिंसा पश्चिमी मिदनापुर जिले में लालगढ़ से लेकर झड़ग्राम तक फैल गई है। इलाके में टकराव बढ़ गया है। बुधवार को माकपा के तीन और कार्यकर्ता मारे गए। पिछले हफ्ते से अब तक सात माकपाइयों की हत्या हो चुकी है और छह अन्य लापता है।

इस बीच नक्सलियों दवारा इलाके में बारूदी सुरंगें बिछाने की खबरों के बीच केंद्र ने विशेष नक्सल निरोधी बल कोबरा को इलाके में रवाना कर दिया है। केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि नवगठित कमांड बटालियंस फार रिजल्यूट एक्शन (कोबरा) की चार इकाईयों को पश्चिम मिदनापुर और उससे सटे क्षेत्रों में भेजकर बल को पहली जिम्मेदारी देने का फैसला किया गया है।

बल की हर इकाई में करीब 120 कर्मी होते हैं। बल के सैनिकों को उड़ीसा से विमानों के जरिए भेजा जा रहा है। माओवादियों के खिलाफ अभियान चलाने के लिए सीआरपीएफ की पांच कंपनिया पहले ही वहां पहुंच गईं हैं लेकिन राज्य सरकार की दुविधा व कुछ अन्य कारणों से पुलिस अभियान फिलहाल टाल दिया गया है। उधर, करीब 500 प्रशिक्षित माओवादियों ने लालगढ़ में जवाबी पोजिशन ले ली है।

उन्होंने महिलाओं व बच्चों को ढाल बनाकर आगे करने की रणनीति बनाई है। साथ ही इलाके में केंद्रीय बलों का प्रवेश रोकने के लिए सड़कों व रास्तों पर पेड़ों के अवरोधक खड़े कर दिए हैं। माओवादियों ने बुधवार को तड़के बैंकसोल में माकपा के तीन और काडरों को मार डाला।

हालात पर विचार के लिए वाममोर्चे की बैठक में कई नेताओं का कहना था कि इसमें आम लोगों की जानें जा सकती हैं। जबकि कई अन्य नेता अभियान में देरी न किए जने के पक्ष में थे। फिलहाल इसे स्थगित कर दिया गया है।

हालांकि मुख्यमंत्री ने जल्द अभियान शुरू करने की घोषणा की है। इस बीच, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य प्रशासन को सलाह दी है कि इस अभियान में राज्य की सशस्त्र पुलिस भी तैनात की जाए क्योंकि कानून व व्यवस्था राज्य की ही प्राथमिक जिम्मेदारी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘कोबरा’ फोर्स लालगढ़ रवाना