class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

क्या होगा बद्रीनाथ रसीद मामले का

बदरीनाथ में विशेष पूजा अभिषेक के लिए नकली रसीद बनाकर कमाई करने वालों का मामला अभी तक पूरी तरह खुल नहीं पाया है। क्या यह जांच फाइलों में ही अटककर रह जाएगी? भगवान के दरवार में भी काले धंधे के उजागर होने पर सबकी निगाहें टिकी हैं। मगर मामला अभी तक जांच की फाइलों तक ही उलझकर रह गया है।
उल्लेखनीय है कि बदरीनाथ मंदिर में विशेष पूजा अभिषेक के लिए मंदिर समिति द्वारा जो अधिकृत पूजा रसीद भक्तों द्वारा काटी जाती है और जिस अभिषेक पूजा के शुल्क से मंदिर में विविध पूजाए होती हैं तथा इस धन से मंदिर तथा अन्य कल्याणकारी कार्य संपादित होते हैं। ऐसी पूजा रसीदों की नकली रसीद बनाकर अभिषेक पूजा के लिए एक बड़े गोरखधंधे का खुलासा बदरीनाथ में हुआ।

9 मई को इस मामले में मनोज सिंह रावत पुत्र बलवीर सिंह रावत ग्राम पलेठी जिला चमोली को रंगे हाथ गिरफ्तार किया गया। आरोपी ने बताया कि उसके साथ इस धंधे में गजेंद्र पंडा और अन्य लोग शामिल हैं। बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के कर्मचारियों ने चेतावनी दी थी कि यदि इस गोरखधंधे में शामिल अन्य अभियुक्तों की गिरफ्तारी और मामले का खुलासा नहीं हुआ तो वे आंदोलन करेंगे। पुलिस ने अफरा तफरी मे गजेंद्र पंडा को तो पकड़ लिया और उसकी निशानदेही और बताये गए नामों के आधार पर छानबीन भी शुरू की। बदरीनाथ के थानाध्यक्ष महानंद बताते हैं कि अभियुक्त ने जिन लोगों का नाम बताया उनके घर पर जब तलाशी ली गई तो ऐसी कोई रसीद नहीं मिली और जो अन्य नाम उसने बताये वे कहीं नहीं मिले। बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के कर्मचारियों और अन्य स्थानीय जनता ने इस मामले की जांच बदरीनाथ थाने के अतिरिक्त दूसरे से कराने की मांग की।

बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के मुख्य कार्याधिकारी पीसी डंडरियाल बताते हैं कि जनता की मांग पर इस मामले की जांच के अधिकारी जोशीमठ के थानाध्यक्ष को बनाया गया है और वे इस मामले की तहकीकात कर रहे हैं। इस मामले में एक महीने से अधिक समय हो गया है परंतु अभी तक जांच की कोई प्रगति सामने न आने से कई प्रश्न खड़े हो रहे हैं। उल्लेखनीय है कि अभियुक्त के पास से 16 रसीद बुक मिली थी। प्रत्येक रसीद बुक मे 100 पन्ने होते हैं। इस प्रकार से अभियुक्त जब रंगे हाथ पकड़ा गया तो 16 रसीद बुक मिली। प्रत्येक अभिषेक पूजा के शुल्क अलग अलग हैं। जो रसीद आरोपी से मिली वह शयन आरती की थी और शयन आरती का शुल्क एक हजार रूपये प्रति रसीद होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्या होगा बद्रीनाथ रसीद मामले का