class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्टेम कोशिका का क्लीनिकल ट्रायल इसी माह शुरू होगा

मधुमेह के रोगियों को होने वाली डाइबिटिक फूट की समस्या के उपचार के लिए राजधानी दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल में स्टेम कोशिका का क्लीनिकल ट्रायल इसी माह से शुरू किया जाएगा। इसके लिए भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद से औपचारिक अनुमति मिल गई है।
   

अस्पताल के डाइबिटीज और मेटाबोलिक विभाग के निदेशक डा अनूप मिश्र ने आज यह घोषणा करते हुए बताया कि इस क्लीनिकल ट्रायल के लिए फोर्टिस हेल्थ केअर ने बीक बायोटेक इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के साथ अनुबंध किया है। उन्होंने बताया कि वसंतकुंज स्थित फोर्टिस अस्पताल में जुलाई के पहले सप्ताह से शुरू होने वाले इस क्लीनिकल ट्रायल में 36 रोगियों को शामिल किया जाएगा। इनमें से 12 रोगियों का स्टेम कोशिका से इलाज किया जाएगा। 
   

डा मिश्रा ने बताया कि मधुमेह पीड़ित एक से चार फीसदी रोगियों को पैरों में घाव हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि वर्ष 2030 तक भारत में मधुमेह के आठ करोड़ रोगियों में से 1.4 करोड़ को डाइबिटिक फूट की समस्या होने का खतरा है। उन्होंने कहा कि इस ट्रायल की सफलता से भारत में डाइबिटिक फूट के उपचार में मूलभूत बदलाव आएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्टेम कोशिका का क्लीनिकल ट्रायल इसी माह शुरू होगा