class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बढ़ सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम: देवड़ा

बढ़ सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम: देवड़ा

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में तेजी से चिंतित सरकार बढ़ते राजस्व घाटे पर काबू पाने की संभावना तलाश रही है और इस दिशा में उसने पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ने का विकल्प खुला रखा है।

यहां वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी के साथ बैठक के बाद पेट्रोलियम मंत्री मुरली देवड़ा ने बताया कि हम कच्चे तेल की कीमतों में तेजी के रुख को लेकर चिंतित हैं और हमें समाधान तलाशना है।

कच्चे तेल की कीमत 147 डॉलर प्रति बैरल के ऐतिहासिक स्तर से 100 डॉलर तक घटने के बाद से ही पेट्रोल और डीजल की कीमतें नियंत्रण मुक्त करना सरकार के एजेन्डे में रहा है, लेकिन कीमतों में फिर तेजी का रुख बनने से कीमतें नियंत्रण मुक्त करने की संभावना धूमिल पड़ती जा रही है। वर्तमान में कच्चे तेल की कीमतें 71-72 डॉलर प्रति बैरल के सात माह के उच्च स्तर पर हैं।

देवड़ा ने कहा कि हमें गंभीरता से समाधान तलाशना है। हमारे पास मौजूद विकल्पों में पेट्रोल और डीजल के दाम बढ़ाने एवं तेल बांड जारी कर राजस्व घाटा उठाने के लिए सरकार को कहने का विकल्प है। देवड़ा ने हालांकि यह स्पष्ट नहीं किया कि पेट्रोल और डीजल की कीमतें बढ़ाने का प्रस्ताव तैयार है या नहीं।

इंडियल आयल, भारत पेट्रोलियम और हिन्दुस्तान पेट्रोलियम अगर वर्तमान कीमतों पर पेट्रोल, डीजल, एलपीजी और केरोसिन की बिक्री करना जारी रखती हैं तो उन्हें करीब 60,000 करोड़ रुपये राजस्व का नुकसान होगा। मंत्री ने कहा कि हमें तत्काल समाधान खोजने की आवश्यकता है। उन्होंने संकेत दिया कि वित्त मंत्रालय इस मुद्दे का समाधान बजट में कर सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बढ़ सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम: देवड़ा