class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जद यू के लिए गले की हड्डी बने विजय कृष्ण

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) छोडकर जनता दल यू ,जद यू में शामिल हुए पूर्व सांसद विजय कृष्ण सिंह बहुचर्चित सतेन्द्र सिंह हत्याकांड के एक मामले में फंसने के कारण पार्टी के लिए गले की हड्डी बन गए है। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) की तरह अब जद यू पर भी इस बात का दबाव बनता जा रहा है कि वह हत्याकांड में फंसे अपने पूर्व सांसद को पार्टी से निलंबित करें। गौरतलब है कि पटना के व्यवसाई सतेन्द्र सिंह की गत 24 मई को हत्या कर दी गई थी और इसके पीछे विजय कृष्ण और उनके पुत्र चाणक्य सिंह उर्फ गुड्डु के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। पटना के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी शैलेन्द्र कुमार ने विजय कृष्ण के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी कर उसे एक महीने में अदालत में पेश करने का निर्देश जारी किया है।


उधर राकांपा इसी तरह के एक मामले में अपने सांसद पद्म सिंह पाटिल को कांग्रेस नेता निंबालकर हत्याकांड में फंसने के कारण पार्टी से निलंबित कर चुकी है लेकिन जद यू ने विजय कृष्ण के मामले में अभी कोई निर्णय नहीं लिया है। पार्टी सूत्रों के अनुसार पार्टी का शीर्ष नेतृत्व सतेन्‍द्र सिंह के हत्यारे को सजा दिलाने और कानून के अपना काम करने के पक्ष में है। जहां तक विजय कृष्ण को पार्टी से निलंबित करने का मामला है तो इस बारे में पार्टी में कोई फैसला नही किया गया है। पार्टी नेतृत्व इस बात का इंतजार कर रहा है कि विजय कृष्ण खुद जितना जल्द हो अदालत के सामने आत्मसमर्पण कर दें। 


हालांकि विजय कृष्ण के इस हत्याकांड में फंसने से पार्टी की छवि को भी गहरा धक्का लगा है। लेकिन पार्टी यह चाहती है कि जांच से ही सच्चाई का पता चलेगा कि क्या विजय कृष्ण का इसमें कोई हाथ है या उन्हें फंसाया जा रहा है। गौरतलब है कि सतेन्द्र सिंह के परिवारवालों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात कर इस हत्याकांड के अभियुक्तों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की थी। कुमार ने पीडि़त परिवार को आश्वासन दिया है कि इस मामले में न्याय किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जद यू के लिए गले की हड्डी बने विजय कृष्ण