class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अहमदीनेजद की वापसी

ईरान की जनता ने राष्ट्रपति अहमदीनेजद को दोबारा चुन कर दुनिया को यह संदेश दे दिया है कि वह अपनी अनुदार घरेलू और विदेशी नीतियों को जारी रखना चाहती है। अगर वह उसमें कोई परिवर्तन भी करेगी तो वह अहमदीनेजद के ही नेतृत्व में करना चाहेगी न कि मीर हुसैन मौसवी की अगुआई में।

यह चुनाव हाल में  लेबनान में ‘मार्च 14 के गठजोड़’ की जीत से उत्साहित पश्चिमी देशों की चिंता बढ़ाने वाला है। क्योंकि पहले से और मजबूत हो कर उभरे अहमदीनेजद अब ईरान के एटमी कार्यक्रमों और पश्चिम एशिया में शांति के विभिन्न प्रयासों पर होने वाली  वार्ताओं में ज्यादा सख्त रवया अपना सकते हैं। वे ओबामा की आलोचना की जद में आते इजराइल के खिलाफ और मजबूत मोर्चा भी खोल सकते हैं। 

इसके विपरीत यह भी संभावना है कि  इस चुनाव में ईरान की विदेश नीति , घरेलू अर्थव्यवस्था और महिला अधिकारों से जुड़े सामाजिक और धार्मिक सुधारों पर हुई लंबी बहसों के बाद वे अपनी अनुदार नीतियों में कुछ उदारता का भी समावेश कर सकते हैं। ऐसी उम्मीद अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी जताई है और हर समझदार नेतृत्व इस तरह का समायोजन करता भी है। पर सवाल उठता है कि  शहरी मध्यवर्ग और देशी- विदेशी मीडिया की आलोचना और सत्ता परिवर्तन के अनुमानों के बावजूद अहमदीनेजद की वापसी कैसे हो गई।

बढ़ती महंगाई , बेरोजगारी और अमेरिका से आशंकित टकराव के मद्देनजर यह अनुमान जोरशोर से लगाया ज रहा था कि इस बार सुधारवादी नेता मीर हुसैन मौसवी को जीत हासिल होगी । लेकिन चार साल पहले की तरह इस बार भी अहमदीनेजद ने चुनाव विश्लेषकों को गलत साबित किया है। स्पष्ट है कि उनके साथ शहर का मतदाता भले न हो पर गांव और छोटे कस्बों के मतदाता मजबूती से लामबंद थे। बेरोजगारी और महंगाई की विपरीत स्थितियों के बावजूद उन्होंने तेल के निर्यात से हुई कमाई को अपनी जनता के बीच उदारता पूर्वक वितरित किया था।

जिस दिक्कत में फंसे लाखों परिवारों को राहत मिली। इसी आर्थिक उदारता के बूते पर वे धार्मिक अनुदारता की इमारत को बचा भी ले गए। लेकिन अहमदीनेजद को असली जीवनदान मिला अमेरिका में उदारवादी नीतियों के हिमायती  बराक ओबामा की जीत से। ईरान के इस्लामी राष्ट्रवाद को नए संदर्भों में परिभाषित कर सकते हैं। लेकिन ईरान यह ऐतिहासिक भूमिका टकराव के रास्ते से हट कर ही निभा पाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अहमदीनेजद की वापसी