class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ठगों से ज्यादा दोषी ठगी के शिकार

दिल्ली के सुभाष अग्रवाल और अहमदाबाद के अशोक जडेजा जैसों की ठगी के शिकार लोग खुद भी दोषी हैं। ज्यादा लालच और अंधविश्वास के खिलाफ कारगर हथियार तो शिक्षा और अनुभव ही है। पुलिस ने समय रहते अगर कार्रवाई की होती तो कुछ लोग बच जते। अब यह कार्रवाई क्यों नहीं हुई यह तो जनता जनती है या पुलिस? शायद लोग अभी भी चेत जएं लालच अंधविश्वास के विरुद्ध ‘हिन्दुस्तान’ की आवाज सुनकर।
जगदीश कुमार खन्ना, नई दिल्ली

आखिर सरकार कौन?
नक्सली मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झरखंड, आंध्र प्रदेश के क्षेत्रों में  जो चाहें कर सकते हैं। हमारी सरकार एवं प्रशासन लाचार है। सुरक्षा बल के जवान भी नक्सली क्षेत्रों में जने से पहले सौ बार सोचते हैं। लगता है सरकार फैसला कर चुकी है कि नक्सली प्रभावित क्षेत्रों में गलती से भी पांव नहीं रखना है। जब सरकार की स्थिति ऐसी है तो जंगल के अधिकारी किस प्रकार से अपनी डच्यूटी निभाते होंगे? अधिकारी इतने डरते हैं कि इंद्रावती राष्ट्रीय उद्यान एवं उसके आस-पास के इलाकों में शेरों की गिनती कई वर्षो से नहीं कर सके हैं। जब सरकार एवं प्रशासन नक्सलियों के आगे पंगु हो गई है तब शेर की दहाड़ भी विलुप्त के कगार पर होगी।
शैलेन्द्र कुमार, नेहरू विहार, दिल्ली

सत्तर साल वाद थैंक्स
‘70 साल बाद थंक्स कहने पहुंचा’ समाचार दिल को छू गया। दीवान सिंह मर्तोलिया, एक पोट्रर, ने जक्लूब ब्लावेक की जन बचाई थी। वर्ष 1939 में वे नन्दादेवी ईस्ट चोटी फतह करने के बाद लौट रहे थे। इस पोलिस दल के दो सदस्य मारे भी गए थे। जक्लब ब्लावेक ने अपनी पुस्तक ‘द नन्दा देवी ईस्ट’ में अपने जीवनदाता के बारे लिखा और उनकी मदद करने की भी इच्छा जताई। अब नारर्कीज सोब्लिन पोलैंड से आकर दीवान सिंह मर्तोलिया के पोते त्रिलोक सिंह से बिंज में मिले। धन्यवाद कहा।   
यू. सी. पाण्डेय, द्वारका नई दिल्ली

हॉलीवुड न बनाओ
फिल्मी कलाकारों से अनुरोध है कि बॉलीवुड को नग्नता के नाम पर हॉलीवुड न बनाएं। कई पुरुष कलाकार कहानी की आवश्यकता का बहाना बनाकर अपने को निर्वस्त्र कर रहे हैं। वे केवल सस्ता प्रचार चाहते हैं, और कुछ नहीं। बॉलीवुड के कई कलाकारों ने बिना नग्नता के विश्व प्रसिद्धि प्राप्त की है। सिनेमा व्यक्ित मनोरंजन के लिए देखता है न कि नग्नता के छिछोरेपन के लिए।
ब्रज मोहन, पश्चिम विहार, नई दिल्ली

युवाओं को मौका सराहनीय
राहुल गांधी ने अपनी पार्टी में युवाओं को आगे लाने के लिए सराहनीय प्रयास किया है। देश की आधी आबादी युवाओं की है। सभी क्षेत्रों में सफलता के नए सोपान तय कर रहे युवाओं का राजनीति में आना शुभ संकेत है। दीपक अरोड़ा, होशियारपुर

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ठगों से ज्यादा दोषी ठगी के शिकार