class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तृणमूल कांग्रेस घोर जनतंत्र विरोधी पार्टीः माकपा

तृणमूल कांग्रेस घोर जनतंत्र विरोधी पार्टीः माकपा

माकपा ने तृणमूल की इस बात के लिए कड़ी आलोचना की है कि पश्चिम बंगाल में चक्रवाती तूफान की त्रासदी ङोल रहे लोगों को राहत तथा उनके पुनर्वास पर विचार करने के लिए राज्य सरकार द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में हिस्सा लेने के लिए तृणमूल सुप्रीमो के पास समय नहीं है जबकि चुनावी बढ़त की आड़ में ममता ब्रिगेड के लोग हिंसा व उत्पात मचाने में लगे हैं।

माकपा के मुखपत्र लोकलहर के ताजे अंक में तृणमूल कांग्रेस को घोर जनतंत्र विरोधी चरित्र वाली पार्टी के रूप में घोषित करते हुए माकपा ने पश्चिम बंगाल में उसकी हिंसक सक्रियता को काफी गंभीर रूप में लिया। तृणमूल कांग्रेस के इस ऐलान की माकपा ने आलोचना की कि उसके केंद्रीय मंत्री सप्ताह में पांच दिन बंगाल में बिताएंगे और दो दिन दिल्ली में रहकर अपनी मंत्रालयी जिम्मेदारियों को देंगे।

तृणमूल की केंद्रीय सरकार से सहायता सीधे जिलाधिकारियों को भेजने यानी ‘पीएम से सीधे डीएम, दूर रहे सीएम’ की मांग का उल्लेख करते हुए याद दिलाया गया कि संविधान में 93 वां संशोधन करके जब पंचायती राज संस्थाओं के गठन को अनिवार्य करते समय कांग्रेस के सुझाए इस फार्मूले को देश के संविधान खिलाफ मानते हुए ठुकरा दिया गया था।

तृणमूल पर अपने क्षुद्र राजनीतिक व चुनावी स्वार्थो के लिए संविधान तथा संसदीय जनतंत्र को कमजोर करने पर आमादा होने का आरोप लगाते हुए लेख में मिसाल दी गई कि चुनाव नतीजे आते ही तृणमूल के निर्वाचित सांसद ने सार्वजनिक ऐलान कर दिया था कि 48 घंटे के भीतर-भीतर नंदीग्राम और खेजुरी को माकपा मुक्त बना दिया जाएगा। 

माकपा का आरोप है कि तृणमूल कानून व व्यवस्था भंग हो जाने का बहाना बनाकर केंद्र से संविधान की धारा-355 का इस्तेमाल करके राज्य सरकार के खिलाफ कार्रवाई कराने की फिराक में है। माकपा ने तृणमूल की तुलना 1970 के दशक के दौरान माकपा के खिलाफ कांग्रेस तथा अन्य प्रतिक्रियावादी ताकतों के छेड़े अर्ध-फासी आतंक से करते हुए इसे शिकस्त देने का संकल्प दोहराया।

माकपा ने कहा, चुनावी बढ़त की आड़ में कानून व्यवस्था के नाम पर पश्चिम बंगाल में सरकार के खिलाफ धारा 355 का इस्तेमाल करने की फिराक में है तृणमूल।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जीत के नशे में चूर है तृणमूलः माकपा