class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उद्योग जगत बिना सरकारी सहायता के हालात से निपटें: प्रेमजी

उद्योग जगत बिना सरकारी सहायता के हालात से निपटें:  प्रेमजी

दिग्गज सूचना प्रोद्यौगिकी कंपनी विप्रो लिमिटेड के अध्यक्ष अजीम प्रेमजी ने कहा है कि वैश्विक मंदी ने विश्व व्यापार का ढांचा बदल दिया है। इससे निपटने के लिए  भारतीय उद्योगों को बिना किसी सरकारी सहायता के नई पहल करनी चाहिए।

भारतीय उद्योग परिसंघ के एक समारोह में प्रेमजी ने कहा कि वित्तीय संकट के कारण पूरी दुनिया में व्यवसाय का ढांचा और प्रतिस्पर्धा के तरीके बदल गए हैं। वैश्विक अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत हैं। उन्होने कहा कि यह वास्तविकता है कि विश्व अर्थव्यवस्था में हाल में हुए घटनाक्रम ने वैश्विक स्तर पर व्यावसायिक स्वरूप को भारी छति पहुंचाई है और इससे उबरने में अभी समय लगेगा।

प्रेमजी ने कहा कि आईटी और बीपीओ क्षेत्र 15 प्रतिशत की विकास दर के स्तर पर पहुंच रहे हैं जो कुल घरेलू उत्पाद की विकास दर का दोगुना होगी। इस क्षेत्र को नई पहल करने की जरूरत होगी। उन्होंने कहा कि आईटी उद्योग में वर्ष 2007-08 के दौरान 30 प्रतिशत तक की विकास दर रही जबकि पिछले वर्ष इसमें जबरदस्त गिरावट रही और 12 से 14 प्रतिशत तक गिर गई।

पिछले दो सालों में इस क्षेत्र का निर्यात 40 अरब डॉलर से बढ़कर सिर्फ 47 अरब डॉलर तक पहुंचा। उन्होंने कहा कि व्यवसाय और उपभोक्ताओं को आर्थिक मंदी ने पूरी तरह बदल दिया है अब फिर से इसे पटरी पर लाने के लिए रणनीति में बदलाव की जरूरत है।

उन्होंने कहा कि व्यवसायियों को नए बाजार खोजने की जरूरत है। उन्हें निवेश के लिए भी नए क्षेत्र तलाशने होंगे। प्रेमजी ने कहा कि आईटी सेक्टर को सरकार की ओर मदद के लिए नहीं देखना चाहिए क्योंकि उसकी प्राथमिकताएं अन्य क्षेत्रों में हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नई पहल से हटेगी मंदी : प्रेमजी