class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत ने दिखाए कूटनीतिक तेवर

भारत ने दिखाए कूटनीतिक तेवर

ऑस्ट्रेलिया में भारतीय छात्रों पर हमले को थमता न देख भारत ने शुक्रवार को एक विशेष दिशा-निर्देश जरी कर छात्रों को उसका पालन करने की नसीहत दी है। विदेश मंत्रालय द्वारा जरी यह गाइडलाइन ऑस्ट्रेलिया सरकार के लिए एक कूटनीतिक संदेश भी है कि वह भारतीय छात्रों को समुचित सुरक्षा प्रदान नहीं कर पा रही है।

सूत्रों के मुताबिक, यदि निकट भविष्य में हालात नहीं सुधरे तो भारत सरकार कुछ कड़े फैसले ले सकती है जिसमें एडवाइजरी जरी करना और अंतिम विकल्प के तौर पर छात्रों को लौट आने के लिए कहना शामिल है। करीब एक पखवाड़े से ऑस्ट्रेलिया के शीर्ष नेतृत्व से भारतीय नेताओं की बातचीत के बावजूद भारतीय छात्रों पर हमले रुकने का नाम नहीं ले रहे।

शनिवार को भी एक भारतीय छात्र पर हमला कर उसे घायल किया गया। गाइडलाइन में छात्रों को ऑस्ट्रेलिया जने से पहले, वहां पहुंचने के बाद और सुरक्षित रहने के लिए कई सुझव दिए गए हैं।

एक महत्वपूर्ण सुझव यह है कि छात्र ऑस्ट्रेलिया भेजने वाले एजेंटों के झंसे में न आएं। अक्सर एजेंट छात्रों को पार्ट टाइम कमाई के जरिए पढ़ाई के साथ ही जेब खर्च कमा लेने की सुविधा का झंसा देते हैं। सूत्रों के मुताबिक, कई एजेंटों के साथ ऑस्ट्रेलिया की कुछ शिक्षण संस्थाओं की मिलीभगत होती है। विदेश मंत्रालय ने अपने छात्रों पर हमलों को नस्ली हमले करार न देते हुए लूटपाट और हमले करार दिया है। इसमें कहा गया है कि मेलबर्न में छात्रों पर ज्यादा हमले हो रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत ने दिखाए कूटनीतिक तेवर