class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहली बार तीन भारतीय फाइनल में

पहली बार तीन भारतीय फाइनल में

विश्व युवा चैम्पियन थोकचोम ननाओ सिंह दो अन्य मुक्केबाजों के साथ चीन के झुहाई में चल रही एशियाई मुक्केबाजी चैम्पियनशिप के फाइनल्स में पहुंच गये हैं। दूसरी ओर ओलंपियन विजेंदर सिंह और जितेंदर सिंह को सेमीफाइनल में शिकस्त झेलनी पड़ी जिससे अब उन्हें कांस्य पदक से संतोष करना पड़ेगा।

ननाओ (48 किग्रा), सुरंजय सिंह (51 किग्रा) और जय भगवान (60 किग्रा) अपने-अपने वर्ग के खिताबी मुकाबले में पहुंच गए।  विजेंदर (75 किग्रा) और जितेंदर (54 किग्रा), परमजीत समोता (प्लस 91 किग्रा) और दिनेश कुमार (81 किग्रा) को सेमीफाइनल में मिली हार से कांस्य पदक मिलेगा।

ननाओ ने मंगोलिया के न्यायांबर तुगस्टोग्ट को 15-7 से परास्त किया। सुरंजय ने थाईलैंड के रूनेरोंग अमनाज पर 4-2 से जीत दर्ज की। अब फाइनल में ननाओ का मुकाबला थाईलैंड के पोंग्ट्रेयून कीयू और सुरंजय का सामना चीन के लि हाओ से होगा। जय भगवान ने कजाकिस्तान के झलोव गानी को 7-2 से हराया।

अब शनिवार को फाइनल में उनकी भिड़ंत तुर्कमेनिस्तान के हुडेबेरदेव से होगी।  विजेंदर का स्थानीय प्रबल दावेरा क्षांग जियांटिग से 8-11 से हारना हालंकि हैरतभरा रहा क्योंकि यह 23 वर्षीय भारतीय बेहतरीन फार्म में चल रहा है। विजेंदर ने उज्बेकिस्तान और किर्गिस्तान जैसे शीर्ष मुक्केबाजों को परास्त किया था।

वहीं जितेंदर शुरू में 3-0 की बढ़त बनाये थे, लेकिन वह रणनीति के अनुरूप नहीं खेल सके और चीन के मा यून्हाओ से 4-9 से हार गये। दिनेश को उज्बेकिस्तान के रासुलोव एल्शोद से 4-13 से और समोटा को उज्बेकिस्तान के ही अब्दुल्लाऐव सरदोर से 1-15 से शिकस्त का सामना करना पड़ा। भारत ने पिछली एशियाई चैम्पियनशिप में एक रजत और चार कांस्य से पांच पदक जीते थे।   

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पहली बार तीन भारतीय फाइनल में