class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोन की मुश्किलें

आज के दौर में अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिहाज से छात्रों के लिए एजूकेशन लोन एक बड़ी सहूलियत है। वहीं सामान्यत: लोन चुकाने के मामले में भी बैंक कई तरह की सुविधाएं देते हैं, मसलन बैंक कोर्स को पूरा करने के छह माह और एक वर्ष बाद तक ऋण को अदा करने की छूट देते हैं और बैंक तब तक ऋण अदायगी को नहीं कहते, जब तक आपको नौकरी नहीं मिल जाती।

इनमें से जो शर्त पहले पूर्ण हो जाती है, बैंक उस आधार पर रीपेमेंट करते हैं। हालांकि इसमें कोई दोराय नहीं कि विज्ञापनों में तो कई बैंक लोन देने की इच्छा दर्शाते हैं, लेकिन इसके बावजूद बैंक से लोन लेना आसान काम नहीं है।

- अगर आपकी क्वालिफिकेशन बेहतर नहीं है, तो आपके लिए लोन लेना मुश्किल हो सकता है। 
- अगर आपने किसी प्रतिष्ठित संस्थान से कोर्स किया है, तो कम दिक्कत आएगी।
- अगर आपने किसी ऐसे संस्थान से कोर्स किया है, जिसकी प्रतिष्ठा नहीं है, तो आपको बैंक के चक्कर लगाने पड़ सकते हैं। 
- दूरस्थ शिक्षा और ऑनलाइन एजूकेशन दोनों के लिए लोन नहीं मिलते हैं। 
- ऐसे कोर्स जो यूजीसी द्वारा प्रमाणित न हों, उसके लिए लोन आसानी से उपलब्ध नहीं होता। 
- चार लाख से ज्यादा वाले लोन में थर्ड पार्टी गारंटी की जरूरत पड़ती है, जिसे मिलने में सामान्यत: कई बार मुश्किलें आ जाती हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लोन की मुश्किलें