class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नीलाभ अश्क को साहित्य अकादमी का अनुवाद पुरुस्कार

प्रसिद्ध लेखिका अरुंधति राय के बहुचर्चित उपन्यास ‘द गाड ऑफ स्माल थिंग्स’ के हिन्दी अनुवाद तथा राही मासूम रजा के उपन्यास ‘टोपी शुक्ला’ के अंग्रेजी अनुवाद के लिए वर्ष 2008 का साहित्य अकादमी का अनुवाद पुरुस्कार दिया गया है। इसके अलावा कश्मीरी मैथिली और संस्कृत में अनुवाद के लिए भी पुरुस्कार दिए गए हैं। अरुंधति राय के उपन्यास के हिन्दी अनुवाद ‘मामूली चीजों का देवता’ के अनुवादक कवि नीलाभ अश्क तथा ‘टोपी शुक्ला’ के अंग्रेजी अनुवाद की अनुवादिका मीनाक्षी शिवराम को पुरुस्कार में बीस-बीस हजार रुपए की राशि तथा एक ताम्रपत्र दिया जाएगा।

ये पुरुस्कार 20 सितम्बर को बेंगलूर में अकादमी के अध्यक्ष सुनील गंगोपाध्याय प्रदान करेंगे। कश्मीरी में अनुवाद के लिए रुप कृष्ण भट्ट मैथिली में अनुवाद के लिए ताराकांत झा तथा संस्कृत में अनुवाद के लिए ए.टी.सुब्रह्मण्यम को पुरुस्कार के लिए चुना गया है। झा को अकादमी के पूर्व अध्यक्ष गोपीचंद नारंग की आलोचनात्मक पुस्तक तथा भट्ट को विभिन्न भाषाओं की कहानियों एवं सुब्रह्मण्यम को तमिल काव्य संग्रह कुरंतो कई के अनुवाद के लिए पुरुस्कार दिए गए है। अकादमी 17 भाषाओं के 17 अनुवादकों को पुरुस्कार की पहले ही घोषणा कर चुका है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नीलाभ अश्क को साहित्य अकादमी का अनुवाद पुरुस्कार