class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मून ने फिर कहा, वादा निभाए श्रीलंका

मून ने फिर कहा, वादा निभाए श्रीलंका

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून ने श्रीलंका सरकार को याद दिलाया है कि तमिल विद्रोहियों के खिलाफ सैन्य अभियान खत्म होने के बाद अब उसे अपना वादा निभाना चाहिए।

गत माह 22 और 23 तारीख को संयुक्त राष्ट्र महासचिव की श्रीलंका यात्रा के दौरान बान और श्रीलंका के राष्ट्रपति महिन्दा राजपक्षे के एक संयुक्त बयान में इस पर सहमति व्यक्त की गई थी कि देश अब संघर्ष के बाद के चरण में पहुंच गया है तथा राहत, पूनर्वास पुनस्र्थापन और मेलमिलाप की प्रक्रिया में कई बाधाओं का सामना कर रहा है।

बान ने गुरुवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वह राजपक्षे को एक पत्र भेज रहे हैं, जिसमें उनसे संघर्ष के आखिरी चरण में अंतरराष्ट्रीय कानून के उल्लंघन के बारे में उत्तरदायित्व एवं पारदर्शिता पूर्ण जांच कराने के उनके वादे की याद दिलाई गई है।

बान ने श्रीलंका में तमिल समुदाय के साथ बातचीत और उन्हें राष्ट्र की मुख्यधारा में लाने के प्रयास तुरंत शुरू करने की आवश्यकता भी व्यक्त की है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने लड़ाई में विस्थापित हुए लोगों के पूनर्वास और उन्हें हर प्रकार की सहायता दिए जाने की भी जरूरत जताई। संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी उच्चायोग के आंकड़ों के मुताबिक श्रीलंका में विस्थापितों की संख्या लगभग तीन लाख है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मून ने फिर कहा, वादा निभाए श्रीलंका