class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कश्मीर से हटेगी सीआरपीएफ

कश्मीर से हटेगी सीआरपीएफ

जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ की तैनाती की समीक्षा होगी। जल्द ही इस तरह का अभ्यास शुरू किया जाएगा कि जम्मू-कश्मीर पुलिस प्राथमिक भूमिका अख्तियार करे और धीरे—धीरे सीआरपीएफ की जगह ले। यह निर्णय गुरुवार को यहां केंद्रीय गूह मंत्री पी. चिदंबरम की मौजूदगी वाली उच्चस्तरीय बैठक में लिया गया। चिदंबरम राज्य के दो दिन के दौरे पर आए हैं। एकीकृत मुख्यालय में हुई इस बैठक की अध्यक्षता मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने की।

बैठक में केंद्रीय अर्धसैनिक बलों और खासकर सीआरपीएफ का पुनगर्ठन करने तथा महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों और वीआईपी की सुरक्षा की जिम्मेदारी धीरे—धीरे राज्य पुलिस को सौंपने पर भी चर्चा हुई। बैठक में मौजूद चिदंबरम ने कहा कि केंद्र चाहेगा कि अर्धसैनिक बल इस सीमावर्ती राज्य में सिर्फ सहायक भूमिका निभाएं। उनका कहना था कि हम छोटे—छोटे कदम उठाएंगे और कश्मीर में एकबारगी बड़ी छलांग नहीं लगाएंगे। चिदंबरम के मुताबिक, जो कुछ भी योजना बनाई ज रही है, उसे रातोंरात लागू नहीं किया ज सकता और छह महीने के बाद इसकी समीक्षा की जएगी।

चिदंबरम की टिप्पणी मुख्यमंत्री उमर के उस वादे की तर्ज पर थी जिसमें कहा गया था कि अर्धसैनिक बलों को राज्य में गौण भूमिका निभानी चाहिए। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि अर्धसैनिक बलों और खासतौर पर सीआरपीएफ को राज्य से धीरे—धीरे हटाना बेहद जरूरी है क्योंकि केंद्र को नक्सल प्रभावित राज्यों में उनकी आवश्यकता है।

यूपीए सरकार के दूसरे कार्यकाल में अपने पहले दौरे पर जम्मू-कश्मीर आए चिदंबरम ने मौके पर सुरक्षा स्थिति की भी समीक्षा की। यह समीक्षा शोपियां में दो लड़कियों से कथित तौर पर बलात्कार और उनकी हत्या किए जने को लेकर उपजे तनाव के बीच की गई। बैठक में आने के पहले चिदंबरम की उमर अब्दुल्ला से सीधी बातचीत हुई। इसमें उन्होंने सुरक्षा मुददों और राज्य में विकास परियोजनाओं की प्रगति पर चर्चा की। इसके अलावा वार्षिक अमरनाथ यात्रा के लिए सुरक्षा प्रबंधों पर भी चर्चा हुई। अमरनाथ यात्रा 15 जून से शुरू होनी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कश्मीर से हटेगी सीआरपीएफ