class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बची राशि का वर्षवार ब्यौरा 10 अक्टूबर तक दिया जाए

शासन ने सभी विभागों को निर्देश दिया है कि विकास कार्यो के मद की वर्ष 2007-08 के दौरान पी.एल.ए. और डिपाजिट खातों में जमा की गई धनराशि का 30 सितम्बर 2009 तक उपयोग कर लिया जाये। उसके बाद जो धनराशि बचे उसे तत्काल राजकोष में जमा कर दिया जाए।

वित्त विभाग के प्रमुख सचिव द्वारा जारी शासनादेश में विभिन्न विभागों के और संस्थाओं में तैनात वित्त नियंत्रक, मुख्य और वरिष्ठ वित्त एवं लेखाधिकारियों से कहा गया है कि 31 मार्च 2009 तक पीएलए और डिपाजिट खातों में जमा धनराशि के विपरीत 30 सितम्बर 2009 को जो शेष धनराशि बचती है, उसका वर्षवार विवरण 10 अक्टूबर 2009 तक उपलब्ध कराया जाए।

शासनादेश में यह भी कहा गया है कि निर्धारित व्यवस्था के विपरीत यदि बैंक या डाकखाने में शासकीय धनराशि जमा की गई है, उसे अविलम्ब राज्य की समेकित निधि में सुसंगत लेखा शीर्ष में जमा किया जाये। इसके अलावा शासनादेशों के विपरीत बैंक ड्राफ्ट्स इत्यादि के रूप में रखी अप्रमुक्त शासकीय धनराशि को भी राजकोष में जमा किया जाना सुनिश्चित किया जाय। आदेशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:विकास कार्यों के धन को उपयोग किया जाए