class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

नीतीश ने गृहमंत्री तथा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को पत्र लिखा

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गृहमंत्री पी चिदम्बरम तथा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण को पत्र लिख कर पुणे के ला इन्सटी्टूट के इंटरव्यू बोर्ड में राज्य के छात्रों को प्रताडि़त किए जाने के मामले में हस्तक्षेप तथा आवश्यक कार्रवाई किए जाने की मांग की है।


 सीएम कुमार ने पटना के एक अंग्रेजी दैनिक में प्रकाशित रिपोर्ट का हवाला देते हुए चिदम्बरम और चव्हाण को अलग अलग लिखे पत्र में यह मांग की। 


कुमार ने चिदम्बरम को लिखे पत्र में कहा कि इस तरह बिहार के छात्रों से अपमान जनक भाषा में सवाल पूछना उनके खिलाफ नफरत और घृणा पेश करना पूर्वाग्रह से ग्रस्त मानसिकता का परिचायक है। उन्होंने कहा कि यह एक खतरनाक प्रवृत्ति है जो हमारे संविधान के ढांचे के खिलाफ है और इसमें संकीर्णता नजर आती है। इसके लिए इंटरव्यू बोर्ड के सदस्यों की भर्त्सना की जानी चाहिए।

मुख्यमंत्री कुमार ने चिदम्बरम को बताया है कि उन्होंने इस संबंध में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को पत्र लिखा है और आवश्यक कार्यवाई करने की मांग की है। उन्होंने गृह मंत्री से अनुरोध किया है कि वह महाराष्र्ट में बिहारी छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करें जो परीक्षा देने या पढ़ने वहां जाते हैं।

कुमार ने चव्हाण को लिखे पत्र में कहा है कि इस धरना की तत्काल न केवल जांच किए जाने की जरुरत है बल्कि सभी संबद्ध पक्षों को संवेदनशील बनाने की जरुरत है ताकि वे इस तरह की संविधान विरोधी मानसिकता का परिचय न दें।
 

उन्होंने पत्र में यह भी लिखा है कि उन्होंने पहले भी महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर इस बात की ओर ध्यान दिलाया है कि बिहारी लोगों के साथ इस तरह की घटनाएं हो रही है। महाराष्ट्र में रहने वाले बिहारी छात्रों, कामगारों तथा अन्य लोगों की जान मान की सुरक्षा की मांग की और दोषी व्यक्तियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की। चव्हाण से यह भी अनुरोध किया कि वे इन घटनाओं की सार्वजनिक रुप से भर्त्सना करें।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नीतीश ने गृहमंत्री तथा महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को पत्र लिखा