class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

‘चीनी धोखाधड़ी’ के बाद भारतीय ने शुरु किया अभियान

‘चीनी धोखाधड़ी’ के बाद भारतीय ने शुरु किया अभियान

भारत ने अफ्रीकी महाद्वीप में भारतीय दवा उद्योग  की छवि को सही रूप में पेश करने के लिए एक बड़ा प्रचार अभियान आरंभ किया है। यह कदम उस सूचना के बाद उठाया गया है जिसके मुताबिक हाल ही में चीन में बनी नकली दवाएं नाइजीरिया में पकड़ी गईं लेकिन उन पर ‘मेड इन इंडिया’ का लेबल लगा हुआ था।

सरकार की ओर से जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि इस अभियान का मकसद अफ्रीकी देशों के मंत्रियों और आला अधिकारियों को यह बताना है कि भारतीय दवाएं  पूरी तरह सुरक्षित हैं और इनकी कीमत भी उचित है।

बयान में कहा गया है कि यह अभियान भारत सरकार के ‘ब्रांड इंडिया’  प्रचार अभियान का एक हिस्सा है। अफ्रीकी देशों के स्वास्थ्य मंत्रियों से मुलाकात के लिए वाणिज्य मंत्रालय के एक प्रतिनिधिमंडल को भी रवाना कर दिया गया है।

यह अभियान नाइजीरिया में भारतीय उच्चायुक्त महेश कुमार सचदेव से मिली सूचना के बाद आरंभ किया गया है। सचदेव ने वाणिज्य मंत्रालय को बताया था कि नाइजरिया में ‘मेड इन इंडिया’ के लेबल के साथ नकली दवाओं की खेप पकड़ी गई थी। हालांकि ये दवाएं चीन में बनी थीं।

गौरतलब है कि भारत के 11 अरब डॉलर  के दवा उद्योग को वर्ष 2015 तक 9.5 प्रतिशत की वार्षिक वृद्धि का अनुमान है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:‘चीनी धोखाधड़ी’ के बाद भारतीय ने शुरु किया अभियान