class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंचायत के फरमान से आहत प्रेमी युगल ने दी जान

पंचायत के फरमान से आहत प्रेमी युगल ने दी जान

अंतरजातीय विवाह कर चुके प्रेमी युगल को पंचायत ने तलाक का फैसला सुना दिया, जिससे नाराज हो कर दोनों ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

डीआईजी ब्रजभूषण ने गुरुवार को बताया कि युवती अमरीन के शव को कब्र से निकलवा कर उसका पोस्टमार्टम कराया जाएगा। इसके लिए जिलाधिकारी से अनुमति ली जा रही है।

मेरठ शहर के परतापुर थाना क्षेत्र के नंगला पातू गांव का निवासी 28 वर्षीय लोकेश और खरखौदा थाना क्षेत्र के फफूंडा गांव की अमरीन करीब दो वर्षों से एक दूसरे से प्यार करते थे। घर वालों के राजी न होने के कारण पिछले दिनों दोनों ने भाग कर विवाह कर लिया था।

बताया जाता है कि अमरीन ने हिंदू धर्म अपनाने के बाद अपना नाम शिवानी रख लिया था। लोकेश के परिजनों ने यह विवाह स्वीकार कर लिया, लेकिन अमरीन के परिजनों ने इसे खारिज करते हुए खरखौदा पुलिस थाने में लोकेश के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करा दी।

लोकेश के परिजनों ने पुलिस को बताया कि नौ मई को अमरीन के परिजन उनके घर आए और कहा कि वह दो चार दिन के लिए अमरीन को अपने घर ले जाना चाहते हैं। लोकेश के घरवालों ने अमरीन को उनके साथ भेज दिया।  बताया जाता है कि जब लोकेश 17 मई को अमरीन को लेने उसके घर गया तो अमरीन के  घरवालों ने यह कह कर उसे उसके साथ भेजने से मना कर दिया कि वह इस शादी को नहीं मानते।

बुधवार 10 जून को खरखौदा में इस मामले में एक पंचायत आयोजित हुई। दोनों पक्षों को सुनने के बाद पंचायत ने लोकेश अमरीन के विवाह को गलत बताया और उन्हें तलाक का आदेश दिया। पंचायत के इस आदेश से क्षुब्ध लोकेश ने कथित तौर पर जहर खा लिया। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसने शाम को दम तोड़ दिया। उधर अमरीन ने भी कथित तौर पर जहर खा कर आत्महत्या कर ली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पंचायत के फरमान से आहत प्रेमी युगल ने दी जान