class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्पैक्ट्रम

आपने कई बार स्पैक्ट्रम शब्द का जिक्र सुना होगा। मोबाइल की थ्री जी टेक्नोलॉजी के लिए स्पैक्ट्रम की बोली लगने की बात चर्चा में है। कुछ महीनों इसी स्पैक्ट्रम को लेकर मोबाइल कंपनियों ने खासा हंगामा भी किया था। मोबाइल कंपनियां सरकार से ज्यादा स्पैक्ट्रम देने की मांग कर रही थीं, लेकिन क्या आप जनते हैं कि स्पैक्ट्रम क्या है। इससे हमें और आपको क्या फायदा होगा?

कैसे करता है काम

रेडियो फ्रीक्वेंसी के एक गुच्छे को स्पैक्ट्रम कहा जाता है। मोटे तौर पर कहा जाए, तो आपका सेलफोन एक रेडियो ही है। स्पैक्टम को मेगाहर्ट्ज में नापा जाता है। स्पैक्ट्रम को उसकी तकनीक के आधार पर बांटा जाता है। यह आपकी आवाज को रेडियो तरंगों में तब्दील कर देता है। इसके बाद यह तरंगें मोबाइल फोन कंपनी के नजदीकी टॉवर के जरिए सर्वर तक पहुंचती हैं, जो इन्हें दूसरे फोन के लिए वापस हवा में रिलीज कर देती हैं। दूसरा सेलफोन इन्हें कैच कर वापस आवाज में बदलता है। चूंकि यह रक्षा से जुड़ा मसला होता है, इसलिए इसे बांटने का काम सरकार ही करती है।

क्या है फायदा

स्पैक्ट्रम से कंपनी का नेटवर्क मजबूत होता है। इससे आवाज की क्वालिटी भी बेहतर होती है, साथ ही रोजमर्रा की जिंदगी में फोन से जुड़ी नेटवर्क की समस्या का समाधान भी हो जाता है। इसके अलावा मोबाइल कंपनियों की सíवस में भी इजाफा हो जाएगा जिससे यह कंपनियां अधिकाधिक ग्राहकों को आकíषत करने में सक्षम होंगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्पैक्ट्रम