class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दूषित पेयजल से बीमारी फैलने का अंदेशा

दूषित पेयजलापूर्ति के चलते बघौला के  गांव हीरापुर में बीमारी फैलने का अंदेशा है। गांव में बिछाई गई नई पाइप लाइन की लिकेज से गांव की स्थिति नारकीय हो गई है। पानी के रिसाव से दो मकानों की दीवारें फट गई हैं। कई और मकानों में पानी रिसने की शिकायत मिली है। इसको लेकर नाराज ग्रामीणों ने सोमवार को जनस्वास्थ्य विभाग के समक्ष प्रदर्शन किया। इस दौरान कार्यकारी अभियंता से मिलकर लिकेज जल्द बंद कराने की मांग की गई। ग्रामीणों ने चेतावनी दी है कि विभाग ने इस समस्या का जल्द समाधान नहीं निकाला तो गांव के लोग सड़कों पर आ आएंगे।


हीरापुर में पानी की सप्लाई के लिए गांव में जनस्वास्थ्य विभाग ने पाइप लाइन बिछवाई। ग्रामीणों के मुताबिक पाइप लाइन सही तरीके से नहीं बिछाए जने के कारण लाइन में लिकेज शुरू हो गई। इस बारे में विभाग के अधिकारियों को कई बार अवगत कराया गया। बावजूद इस समस्या का समाधान नहीं हो सका। लिकेज से गांव में हाल-बेहाल है। कीड़ेयुक्त पानी की आपूर्ति की जा रही है। लिकेज ठीक करने के लिए हाल में बनाई गई सीमेंटिड सड़क तुड़वा दी गई। फिर भी स्थिति यथावत है। गांव के लोगों का कहना है कि दूषित पेयजलापूर्ति से गांव में बुखार का प्रकोप बढ़ा है। महिला सरपचं समेत कई लोग इसकी चपेट में हैं। सरपंच हरप्यारी के नेतृत्व में गांव के लोग जनस्वास्थ्य विभाग के कार्यकारी अभियंता सतीश शर्मा से मिले तथा गांव की स्थिति से अवगत कराया। गांव के प्रेमराज का कहना है कि उसने 10 लाख रुपए की लागत से मकान बनवाया। पानी की लिकेज से उसका मकान दो स्थानों से फट गया। इसी तरह परमानंद और ढकेली मंच के मकान के फटने की खबर है। गांव के लोगों का कहना है कि दूषित पेयजल आपूर्ति के चलते गांव के कई लोग बुखार की चपेट में हैं।

अधिकारियों की टीम हीरापुर पहुंचेगी

जनस्वास्थ्य विभाग के कार्यकारी अभियंता सतीश शर्मा ने माना कि हीरापुर गांव के लोगों ने उनसे पानी की लिकेज के बारे में शिकायत की है। मंगलवार को वह संबंधित अधिकारियों को लेकर गांव में पहुंचेंगे। पाइप लाइन में किन कारणों से लिकेज हुई है। इसकी जांच की जएगी। उन्होंने ग्रामीणों को आश्वासन दिया कि इसका जल्द समाधान कर किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दूषित पेयजल से बीमारी फैलने का अंदेशा