class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

वरिष्ठ डाक अधीक्षक पर हमले के मामले में जेल में बंद थे विधायक

वरिष्ठ डाक अधीक्षक पर हमले के मुकदमे में कारागार में निरुद्ध सपा विधायक दुर्गा प्रसाद यादव की जमानत अर्जी पर सुनवाई पूरी करने के बाद जिला एवं सत्र न्यायाधीश छोटेलाल की अदालत ने बचाव पक्ष के अधिवक्ता के तर्कों से सहमत होते हुए आरोपित विधायक को बीस-बीस हजर रुपये के दो बंधपत्र तथा इतनी ही राशि का निजी मुचलका दाखिल करने पर रिहा करने का आदेश दिया।

अभियोजन पक्ष के अनुसार, वादी वरिष्ठ डाक अधीक्षक श्याम नरायन शर्मा ने शहर कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज करायी थी कि, बीस फरवरी 2009 की दोपहर सपा विधायक दुर्गा प्रसाद यादव, रामपलट यादव व एक अज्ञात व्यक्ति उनके चेम्बर में आए तथा गेना देवी के सस्पेंड होने का कारण पूछा, लेकिन जब वादी ने उन्हें समझने की कोशिश की तो वे नाराज हो गए तथा उनके साथ के अज्ञात व्यक्ति ने वादी के बायीं आंख पर बन्दूक के बट से प्रहार किया।

इस मामले में पुलिस ने आरोपित विधायक को तीन जून को गिरफ्तार किया तथा उन पर सात क्रिमिनल लॉ अमेण्डमेंट एक्ट की धारा भी बढ़ा दी। सीजेएम कोर्ट से जमानत खारिज होने के बाद मंगलवार को आरोपित विधायक की जमानत अर्जी पर दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के पश्चात जिला एवं सत्र अदालत ने सपा विधायक की जमानत अर्जी मंजूर करते हुए उन्हें बीस-बीस हजर रुपये के दो बंधपत्र तथा इतनी ही राशि का व्यक्तिगत मुचलका दाखिल करने पर रिहा करने का आदेश दिया। इस मुकदमे में अभियोजन पक्ष की तरफ से जिला शासकीय अधिवक्ता वीरेन्द्र प्रताप नरायन सिंह तथा सपा विधायक की तरफ से हरिवंश यादव एडवोकेट ने पैरवी की।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सपा विधायक दुर्गा यादव को मिली जमानत