class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हार से सबक ले आत्ममंथन करें लालू-पासवान: नीतीश

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने लालू प्रसाद और रामविलास पासवान को अपनी हार से सबक लेने की नसीहत दी है। यही नहीं उन्हें आत्ममंथन करने को भी कहा है। उन्होंने बगैर इनका नाम लिए इशारों-इशारों में यहां तक कह दिया कि कुछ लोग ‘डेली बेसिस’ पर राजनीति कर रहे हैं। आज लोग राजनीतिक पार्टियों को व्यक्तिगत जागीर की तरह चला रहे हैं। अमूमन लालू प्रसाद पर गरजने वाले नीतीश कुमार मंगलवार को पार्टी कार्यालय में पत्रकारों से बात करते हुए पासवान पर जमकर बरसे।

उन्होंने कहा कि वे सामान्यत: पासवानजी पर अधिक नहीं बोलते लेकिन पासवानजी जो कहते हैं कभी नहीं करते। ऐसे दर्जनों उदाहरण हैं जब उन्होंने बोला कुछ और किया कुछ। आज भी जो बोल रहे हैं उसी पर कायम रहेंगे इसकी क्या गारंटी है? माना जाता था कि वे राजनीति की हवा का रुख भांप लेते हैं लेकिन इस बार उनसे भारी चूक हो गई। उन्हें जनता का रुख भांपना चाहिए। ऐसा करने की बजाए सत्ता की चाबी लेकर घूमने का दावा करते रहे जबकि यह चाबी जनता के पास निकली। बावजूद इसके अपनी हार से सबक लेने को तैयार नहीं दिख रहे।

सत्ता की कुर्सी जनता तय करती है और यह काम उसी का है। आज कोई यहां है कल नहीं होगा, दूसरा आएगा फिर तीसरा। यह क्रम चलता रहता है। ऐसे में कोई गलतफहमी नहीं पालनी चाहिए। लालू प्रसाद द्वारा यह कहे जाने पर कि उन्हें इस कदर परेशान नहीं किया जाए कि उनका स्वाभिमान जग जाए, मुख्यमंत्री ने चुटकी लेते हुए  कहा कि ऐसा स्वाभिमान क्या जो जगा न हो?

मुख्यमंत्री ने माले नेता दीपांकर भट्टाचार्ज के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि कृषि, शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में बिहार का काम बोल रहा है। उन्होंने विशेष राज्य के मुद्दे पर माले के समर्थन के लिए धन्यवाद दिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:लालू पर गरजने वाले नीतीश पासवान पर बरसे