class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुश्किलों को सुलझाना हो तो जरा सो जाएं जनाब

मुश्किलों को सुलझाना हो तो जरा सो जाएं जनाब

किसी मुश्किल के हल नहीं होने से परेशान हैं तो अब घ्‍ाबराइए मत। बस, थोड़ा रिलैक्स हो जाएं और नींद की आगोश में चले जाएं।

क्यों, लगा न अटपटा नुस्खा, लेकिन एक रिसर्च में यह बात सामने आई है कि किसी बड़ी मुश्किल को सुलझाने में नींद की आगोश में जाना मुफीद साबित होता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि किसी मुश्किल के आसानी से नहीं सुलझ पाने पर उससे जुड़ा़ ख्वाब देखना भी फायदेमंद है क्योंकि इससे रचनात्मकता में इजाफा होता है।

डेली टेलीग्राफ की एक खबर के मुताबिक, कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी की प्रो0 सारा मेडनिक की अगुवाई में बनी एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने पाया है कि हल्की नींद लेने के बाद दिमाग किसी भी मुद्दे पर ज्यादा बेहतर और ज्यादा तेज सोचता है।

खबर में कहा गया है कि जिस मुश्किल ने आपको परेशान कर रखा है, उससे जुड़ा़ सपना देखने से तो उसे सुलझाने की काबिलियत और भी बढ़ जाती है।

रिसर्च टीम 77 युवाओं पर किए गए एक प्रयोग के विश्लेषण के बाद इस नतीजे पर पहुंची है। इन युवाओं को सुबह में रचनात्मक काम से जुड़ी़ शब्दों की एक संख्या दी गयी थी।

प्रयोग में हिस्सा ले रहे सभी युवाओं को तीन शब्दों जैसे— (कूकी, हार्ट, सिक्सटीन) के मल्टीपल ग्रुप्स दिखाए गए थे और उन्हें तीनों शब्दों से जोड़ा जा सकने वाला एक चौथा शब्द :जैसे— स्वीट: ढूंढ कर निकालने को कहा गया।

बाद में जब कुछ युवाओं को झपकी लेने की इजाजत दी गयी और इस बात की पड़ताल की गयी कि वे किस तरह की नींद ले रहे हैं, उन्हें दोबारा वही काम फिर से करने को कहा गया।

हल्की नींद ने उन्हें दिए गए मुश्किल काम को सुलझाने के लिए पहले से ज्यादा बेहतर सोचने में मदद की और आखिरकार वे मुश्किल सुलझाने में कामयाब रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मुश्किलों को सुलझाना हो तो जरा सो जाएं जनाब