class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

26/11 : पाक के कब्जे में अब भी एक नाव

26/11 : पाक के कब्जे में अब भी एक नाव

मुंबई में 26 नवंबर को हुए हमले में उपयोग में लाई गई कुबेर नाव के मालिक विनोद मसने ने सोमवार को अदालत को बताया कि इसके पहले पाकिस्तानी अधिकारियों ने दो नाव जब्त कर लिया था और नाव के कर्मचारियों को भी गिरफ्तार कर लिया था लेकिन एक नाव के कैप्टन और एक कर्मचारी को ही रिहा किया था।

विशेष अदालत के न्यायाधीश एमएल तहलियानी के समक्ष मसने, जो कि मुंबई हमले में गवाह भी हैं ने कहा कि पाकिस्तान की समुद्री जल सीमा में पहुंच जाने के कारण उनकी दो नाव के साथ नाव के कर्मचारियों को भी हिरासत में ले लिया था।

जिरह के समय गिरफ्तार पाकिस्तानी आतंकवादी अजमल अमीर कसाब के वकील अब्बास काजमी के एक प्रश्न पर मसने ने कहा कि उसकी दो नावों को पाकिस्तानी अधिकारियों ने जब्त कर लिया। लेकिन एक नाव के कैप्टन और एक अन्य को ही रिहा किया गया, जबकि बाकी के सदस्य अभी भी पाकिस्तान की जेल में हैं।

विशेष सरकारी वकील उज्वल निकम के एक प्रश्न के जवाब में मसने ने कहा कि उसे 27 नवंबर को लगभग शाम छह बजे पोरबंदर पुलिस ने उसकी नाव मुंबई पुलिस के कब्जे में होने के कारण उसे हिरासत में ले लिया था। मसने ने कहा कि दो दिसंबर को उसे पोरबंदर पुलिस मुंबई ले आई और नाव की शिनाख्त कराई।

हाल ही में निकम के एक प्रश्न के जवाब में मसने ने कहा था कि उन्होंने नाव से बरामद कुछ सामानों की शिनाख्त की थी। बाद में बांड पेपर भरने के बाद उनका सामान वापस कर दिया गया। उन्होंने कहा कि नाव से मिली जैकेट और बैरेल्स एवं कुछ अन्य सामान उनके नहीं थे। उन्होंने कहा कि नाव को कोई क्षति नहीं पहुंची है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:26/11 : पाक के कब्जे में अब भी एक नाव