class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गन्ने की खोई से दो हजार मेगावाट बिजली का उत्पादन

गन्ने की खोई से दो हजार मेगावाट बिजली का उत्पादन

देश के पांच मुख्य गन्ना उत्पादक राज्यों की चीनी मिलें राष्ट्रीय बिजली ग्रिड में दो हजार मेगावाट का योगदान कर रही हैं। सेंटर फार साइंस एण्ड एन्वार्नमेंट (सीएसई) की रिपोर्ट के अनुसार इतनी बिजली हरियाणा में गुडगांव जैसे व्यापारिक केन्द्र की बिजली जरूरतों को पूरा करने के लिए काफी है। ये बिजली उत्तर प्रदेश, आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र और तमिलनाडु की चीनी मिलों की खोई (बायोमास) से पैदा की जा रही है।

भारत की चीनी मिलें पवनचक्की जैसी हरी ऊर्जा पैदा करती है और वह भी उसकी आधी कीमत पर। चीनी मिलें राष्ट्रीय पावर ग्रिड को बिजली बेचकर लाभ भी कमा रही है। देश की चीनी मिलें 5100 मेगावाट बिजली पैदा कर सकती है। सी एस ई के अनुसार देश की ऊर्जा और जलवायु सुरक्षा के मद्देनजर ऊर्जा के वैकल्पिक उपायों को विकसित करना बहुत जरूरी है, लेकिन सही नीति न होने और इस तरह की ऊर्जा के मूल्य को लेकर मतभिन्नता के चलते सही दिशा में कदम नहीं उठाया जा रहा है।

देश में आज चीनी की लगभग 650 मिले हैं जिनमें से 107 में ऐसे संयंत्र लगे हैं जहां ये ऊर्जा बनाई जा सकती है। उत्तर प्रदेश की धामपुर चीनी मिलों ने वर्ष 2007-08 में अपने इस संयंत्र से 42 करोड़ रुपये की कमाई की, जबकि उसकी चीनी ईकाइयों से मात्र 11 करोड़ रुपये। उसने राज्‍यों को 17 करोड़ 70 लाख यूनिट बिजली बेची।

अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी का मानना है कि चीनी क्षेत्र से इस प्रणाली के जरिए 5100 मेगावाट बिजली उत्पादन किया जा सकता है। साधनों और प्रौद्योगिकी के कुशल इस्तेमाल से केवल इसी प्रणाली के जरिए 10 हजार मेगावाट बिजली पैदा की जा सकती है। भारत ने चीनी की खोई से ऊर्जा बनाने का कार्यक्रम सबसे पहले वर्ष 1990 में शुरू किया था।

चीनी उत्पादक कई राज्यों में बिजली की कमी बढ़ने के बाद वर्ष 2006 में इस नीति की समीक्षा की गई और ऐसी चीनी मिलों को 15 लाख रुपये प्रति मेगावाट की सबसीडी और कुछ करों में रियायतें देने की घोषणा भी की गई। सीएसई की निदेशक सुनीता नारायण ने हालांकि माना कि इस दिशा में अभी बहुत कुछ किया जाना बाकी है। राज्यों को एक दूसरे को बिजली बेचने की अनुमति दी जानी चाहिए ताकि इस प्रकार की ऊर्जा को प्रोत्साहित किया जा सके।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गन्ने की खोई से 2000 मेगावाट बिजली का उत्पादन