class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीय कानून की डिग्री अब कनाडा में भी मान्य

भारतीय कानून की डिग्री अब कनाडा में भी मान्य

भारत सहित अन्य एशियाई देशों से आने वाले वकीलों की संभावनाओं को विस्तार देते हुए कनाडा सरकार ने उनकी कानून की डिग्री को मान्यता देने का फैसला किया है। भारतीय कानून की डिग्री इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के विधि पाठ्यक्रम के समकक्ष मानी जाती है ।

नेशनल कमीशन ऑन एक्रीडिशन के निवर्तमान कार्यकारी निदेशक वेर्न कृष्ण ने कहा कि एनएसी ने भारत, इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया सहित समान विधि देशों में दी जाने वाली तीन वर्षीय पूर्णकालिक कानून की डिग्री को एक समान दर्जा देने का निर्णय किया है। कानूनी पेशे में आने की बाधाओं में यह एक महत्वपूर्ण छूट है।

प्रो़ कृष्ण अपनी 27 साल की सेवा के बाद 30 जून को सेवानिवृत्त होने वाले हैं। उन्होंने कहा कि नया फैसला एक मार्च से प्रभावी हो गया था और एक मई 2009 को फिर इसकी समीक्षा की गई। इससे भारत सहित दूसरे देशों के प्रशिक्षित वकीलों के मुख्यधारा में आने का मार्ग प्रशस्त होगा।

प्रो़ कृष्णा ने कहा कि भारत, बांग्लादेश, इंग्लैंड, हांगकांग, आयरलैंड, न्यूजीलैंड, नाइजीरिया, पाकिस्तान, सिंगापुर, अमेरिका, वेल्स और वेस्टइंडीज में दी जाने वाली कानून की डिग्री को एक समान दर्जा दिया गया है। हालांकि उन्होंने कहा कि इन देशों से आने वाले वकीलों को कनाडा में वकालत के लिए लगभग छह विषयों की परीक्षा में सफलता अजिर्त करनी होगी। इसके अलावा उन्हें यहां वकालत करने के लिए बार की परीक्षा भी देनी होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारतीय कानून की डिग्री अब कनाडा में भी मान्य