class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दस लाख बोगस राशन कार्ड प्रचलन में

आपूर्ति अधिकारियों, विभागीय कर्मियों एवं डीलरों की मिलीभगत से राज्य में लगभग दस लाख से अधिक बोगस राशन कार्ड प्रचलन में हैं। इन पर अनाज एवं केरोसिन का उठाव कर हर महीने उसकी कालाबाजारी हो रही है। अवैध कमाई का बंदरबांट भी हर महीने डीलरों एवं आपूर्ति पदाधिकारियों में किया जा रहा है। विभाग पिछले तीन साल से प्रत्येक जिले में अभियान चलाकर बोगस राशन कार्डो को चिह्न्ति कर रद्द करने की कार्रवाई कर रहा है। लेकिन कार्रवाई की गति काफी धीमी है। 

   विभागीय अधिकारियों के लिए बोगस राशन कार्ड दुधारू गाय है। इसलिए वे इसे रद्द करने में रुचि नहीं ले रहे। विभागीय के आंकड़ों के अनुसार रांची जिला में बोगस राशन कार्ड की चिह्न्ति संख्या 7210 है। इनमें से 5633 रद्द किये गये हैं। हालांकि बोगस राशन कार्डो की वास्तविक संख्या कई गुणा अधिक है। पूर्वी सिंहभूम में चिह्न्ति संख्या 94,168 है, जबकि रद्द राशन कार्ड 51,235 है। सरायकेला-खरसावां में चिह्न्ति बोगस कार्डो की संख्या 23306 है, जबकि 5800 ही रद्द हुए हैं। पश्चिम सिंहभूम में 2311 चिह्न्ति बोगस कार्डो में से 285 रद्द किये गये हैं। अधिकांश जिलों ने अभी तक बोगस राशन कार्डो के संदर्भ में विभाग को रिपोर्ट नहीं भेजी है। विभागीय सचिव बीके त्रिपाठी ने सभी डीसी को पत्र लिखकर बोगस राशन कार्डो की छटनी कर प्रत्येक सोमवार फैक्स से विभाग को रिपोर्ट भेजने का निर्देश दिया है। इसका अनुपालन नहीं करनेवाले विभागीय अधिकारियों को शोकॉज कर वेतन रोकने का भी आदेश दिया जा रहा है। सचिव ने लिखा है कि जिन बीपीएल परिवारों की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ है, उनका नाम बीपीएल सूची से हटा दिया जाये। साथ ही एपीएल श्रेणी के लोगों द्वारा रखे गये बीपीएल कार्डो को पूर्ण रूप से रद्द कर दिया जाये।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दस लाख बोगस राशन कार्ड प्रचलन में