class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हॉकी की जमीन

इंडियन प्रीमियर लीग खत्म हुई नहीं और 20-ट्वेंटी विश्वकप शुरू हो गया है। सारे देश में क्रिकेट के लघुतम संस्करण का शोर है और इस बीच भारतीय हॉकी जिस हालत में है, उससे उबरने के चिह्न् नहीं दिखते। क्रिकेट और हॉकी दोनों ही भारत के सबसे ज्यादा लोकप्रिय खेल थे, लेकिन दोनों में भारत की स्थिति में इस वक्त जमीन-आसमान का फर्क है। क्रिकेट में हर तरह से भारत महाशक्ित है। हमारी टीम अच्छा खेल रही है और साथ ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पैसे का सबसे बड़ा खजना भारत में है, इसलिए खेल प्रबंधन में भी भारत की चलती है।

आर्थिक मंदी के दौर में भी क्रिकेट में पैसा बरस रहा हैं और खिलाड़ियों की लोकप्रियता फिल्मी सितारों जितनी है। हॉकी में हालत यह है कि पिछले ओलंपिक में हम क्वालिफाई नहीं कर पाए, राष्ट्रीय स्तर पर हॉकी में झगड़े और बवाल हैं और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कोई हैसियत नहीं है।

लेकिन हॉकी की जमीन इस देश में अब भी है। एक ओर पंजब, तो दूसरी ओर कर्नाटक इसके अलावा उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, झरखंड तमाम राज्यों में कुछ ऐसे इलाके हैं, जो हॉकी के गढ़ हैं। दरअसल समस्या यह है कि इन गढ़ों को मिलाकर एक अखिल भारतीय साम्राज्य कैसे बनाया जए। हॉकी में अपना राज चलाने वाले क्षत्रप तो बहुत आए, लेकिन इस साम्राज्य के गठन की दृष्टि किसी के पास नहीं है।

अंतरराष्ट्रीय स्पर्धाओं में मैडल ढूंढने की बजए पहले भारत में एक सुव्यवस्थित हॉकी तंत्र विकसित करना पड़ेगा, जिसके जरिए खिलाड़ी भी आएं और पैसा भी। क्या हम भारत में ऐसी हॉकी नहीं विकसित कर सकते, जो भारतीय ढंग की हो और घास के मैदानों पर खेली जए। हॉकी में भारतीय प्रीमियर लीग क्रिकेट के पहले शुरू हुई थी लेकिन उसका प्रबंधन इतना खराब था कि वह लोकप्रिय तो नहीं हुई, उसने अंतरराष्ट्रीय स्पर्धा को और खत्म कर दिया।

अगर क्रिकेट की तरह भारत हॉकी में भी एक पॉवरहाउस बन कर उभरता है तो हम दुनिया को अपनी शर्तो पर खेलने पर मजबूर कर सकते हैं। भारत में इसके लिए प्रतिभा भी है और पैसा भी। भारत का अर्थतंत्र अभी क्रिकेट जसे कई खेलों को ईंधन मुहैया करा सकता है, जरूरत है सही प्रबंधन और दूरदृष्टि की।

लेकिन भारतीय हॉकी संघ विवादों में उलझ है और हॉकी प्रेमी उस अंतरराष्ट्रीय सफलता का इंतजर कर रहे हैं, जिसके बाद हॉकी भारत में फिर लोकप्रिय होगी। जरूरत अंतरराष्ट्रीय पहचान की उतनी नहीं है, जितनी अपनी हॉकी की विशेषता और ताकत पहचानने की है, क्या ऐसी दृष्टि किसी के पास है?

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हॉकी की जमीन