class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सिडनी में भातीय छात्रों का विरोध प्रदर्शन

सिडनी में भातीय छात्रों का विरोध प्रदर्शन

आस्ट्रेलिया में बढ़ती नस्लीय हिंसा के खिलाफ सैकडों भारतीय छात्रों ने रविवार को मध्य सिडनी की सड़कों पर विरोध की आवाज बुलन्द करते हुए मार्च निकाला।

आस्ट्रेलिया सरकार के लिए सिर दर्द बन चुके इस मामले में भारतीय छात्र अपनी आवाज उठाने के लिए आस्ट्रेलियाई मीडिया का भी खूब प्रयोग कर रहे हैं।

मध्य सिडनी में दोपहर को करीब दो सौ छात्रों ने शहर की मुख्य सडकों पर नस्लीय हिंसा बंद करो के नारे लगाए। छात्रों के हाथ मे तिरंगा ध्वज और नारे वाली तख्तियां और बैनर लिए थे। प्रदर्शनकारी छात्रों की मांग थी कि सुरक्षा एजेंसियां उनकी सुरक्षा के लिए प्रभावी कदम उठाएं।

पढ़ाई के बीच जेब खर्च निकालने के लिए दिन में कुछ घंटे टैक्सी चलाने वाले भारतीय छात्र नवजोत सिंह ने बताया कि कुछ दिन पहले नस्लीय हमले में उसके चेहरे पर धारदार हथियार से प्रहार किया गया था जिससे उसे चोट आई थी। उसने आस्ट्रेलियाई पुलिस को शक्तिविहीन और निष्प्रभावी करार देते हुए कहा कि वह अभी तक दोषियों का पता नहीं लगा पाई है।

एक छात्र रश्मि कुमार ने एक रेडियो चैनल से कहा कि हम सभी अंतरराष्ट्रीय छात्रों के साथ उन सभी मामलों पर एकजुटता से खड़े हैं जिसमें हिंसा का मुद्दा शामिल है और वह दिन प्रतिदिन गंभीर होता जा रहा है।

एक अन्य छात्र ने कहा कि हम उन कारणों के बारे में भी संदेश देने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिर यह हिंसा क्यों शुरू हुई और क्यों विदेशी छात्रों को निशाना बनाया जा रहा है।

पिछले सप्ताह मेलबोर्न में भी इसी तरह का प्रदर्शन हुआ था जिसके हिंसक हो उठने की आशंका की वजह से पुलिस ने बल प्रयोग किया था और बाद में आस्ट्रेलिया की सरकार की काफी किरकिरी भी हुई थी।

आस्ट्रेलिया में अंतरराष्ट्रीय शिक्षा विदेशी मुद्रा की आय का तीसरा सबसे बड़ा माध्यम है। देश में पढ़ने वाले भारतीय छात्रों की कुल संख्या 93000 से अधिक है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सिडनी में भातीय छात्रों का विरोध प्रदर्शन