class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कालेजों को देना होगा प्रवेश का पूरा ब्यौरा

मैनेजमेंट और इंजीनियरिंग कॉलेजों में प्रवेश को लेकर किसी तरह की मनमानी न हो, इसके लिए प्रशासन ने पहले से ही कमर कस ली है। सभी कालेज संचालकों को हिदायत दी गई है कि वह प्रवेश प्रक्रिया फाइनल होने के बाद उसका पूरा ब्यौरा प्रशासन को उपलब्ध कराएंगे। प्रवेश के वक्त ही हर एक स्टूडेंट से एक शपथपत्र भी भरवाएंगे, जिसमें लिखकर देना होगा कि वह रैगिंग में किसी भी तरह से शामिल नहीं होगा।


कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्रों के स्तर से प्रशासन को पूरे साल शिकायतें मिलती रही हैं। इस बार शासन ने भी छात्रों की शिकायतों पर कड़ा रुख अपनाया लिया है, तो प्रशासन भी अभी से हरकत में दिखाई दे रहा है। एडीएम सिटी एसके श्रीवास्तव ने कॉलेजों के प्रतिनिधियों की बैठक बुलाकर साफ कर दिया कि रैगिंग का यदि कहीं भी मामला सामने आया तो प्रशासन चुप नही बैठेगा। सख्त कानूनी कार्रवाई करेगा। इस मामले में सम्बंधित कॉलेज भी अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच पाएगा।


एडीएम ने कॉलेजों से साफ कहा है कि प्रशासन प्रवेश प्रक्रिया पर अपने स्तर से पूरी निगाह रख रहा है। प्रवेश के समय कॉलेज ऐसी व्यवस्था करें, ताकि किसी भी छात्र को उंगली उठाने का मौका न मिले। ज्यादा अंक के छात्र को वरीयता दी जाए। ऐसी शिकायत नहीं मिलनी चाहिए कि अधिक अंक रखने वाला स्टूडेंट प्रवेश नहीं पा सका और कम अंक वाले को एडमिशन मिल गया। यदि ऐसा हुआ तो प्रशासन एक्शन लेगा। पारदर्शी प्रवेश प्रक्रिया के क्रम में इस बार से कॉलेजों के लिए जरूरी होगा कि वह एडमिशन का पूरा ब्यौरा प्रशासन को उपलब्ध कराएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कालेजों को देना होगा प्रवेश का पूरा ब्यौरा