class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीय सेना द्वारा अतिक्रमण नहीं: नेपाल

भारतीय सेना द्वारा अतिक्रमण नहीं: नेपाल

नेपाल सरकार ने भारतीय सेना पर माओवादियों द्वारा लगाए दांग और बारा जिलों में अतिक्रमण करने के आरोप पर भारत का बचाव करते हुए कहा है कि इस सिलसिले में उन्हें किसी प्रकार का कोई प्रमाण नहीं मिला है।

नेपाल में भारतीय उच्चायुक्त राकेश सूद से एक बैठक के बाद विदेश मंत्री सुजाता कोइराला ने पिछली रात पत्रकारों से बातचीत में कहा कि सरकार को अपनी प्रारंभिक रिपोर्ट में इस प्रकार के किसी जमीनी अतिक्रमण या स्थानीय लोगों को परेशान करने का प्रमाण नहीं मिला है।

कोइराला ने कहा, सरकार ने इस मामले की जांच के लिए एक दल भेजा है, लेकिन अभी तक प्राप्त सूचनाओं में इस प्रकार की कोई बात सामने नहीं आई है। गौरतलब है कि नेपाल में माओवादियों ने भारतीय सुरक्षा बलों द्वारा वहां के दांग और बारा जिलों में अतिक्रमण का आरोप लगाया था। वहां के मीडिया का एक धड़ा भी इस मसले पर भारत के विरोध में दिखाई दे रहा था।

भारतीय उच्चायुकत सूद ने कहा कि यह सभी आरोप झूठे एवं मनगढ़ंत है और कुछ लोग जानबूझकर इस तरह की अफवाह फैला रहे हैं, जिससे दोनों पड़ोसी देशों के अच्छे संबंधों में तनाव पैदा हो जाए। उन्होंने नेपाली सरकार से इस मामले में जांच करने को भी कहा है।

इस संबंध में भारतीय उच्चायोग ने भी एक बयान जारी कर कहा है कि उन्होंने एक प्रमुख प्राधिकारी से इस संदर्भ में जांच कराई है, लेकिन इसमें अंतरराष्ट्रीय सीमा पर किसी प्रकार के उल्लंघन या नेपाली नागरिकों पर भारतीय सुरक्षा बलों द्वारा हमले की बात सामने नहीं आई है।

उन्होंने यह भी कहा कि वहां पर खम्भों को इधर से उधर करने की बात भी सही नहीं है।  बयान में कहा गया है कि भारत द्वारा पूछे गए सवाल पर नेपाल ने जवाब देते हुए कहा है कि इस संदर्भ में उन्हें कोई सूचना नहीं मिली है। उच्चायोग ने नेपाली मीडिया के आरोप को भी पूरी तरह से खारिज करते हुए कहा है कि यह तथ्यहीन और कुछ लोगों द्वारा दोनों देशों के मधुर संबंधों को खत्म करने के लिए फैलाया जा रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारतीय सेना द्वारा अतिक्रमण नहीं: नेपाल