class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शरीर में ऊर्जा असंतुलन ही बीमारी का कारण

शरीर में ऊर्जा असंतुलन ही बीमारी का कारण

मानव शरीर एक बैटरी की तरह है जिसमें नकारात्मक और सकारात्मक ऊर्जा छोर होते हैं और इनका तारतम्य बिगड़ने पर रोग की स्थिति पैदा होती है।


हार्ट केयर फाउंडेशन के अध्यक्ष डॉ. केके अग्रवाल ने चीनी चिकित्सा पद्वति पर आधारित मेरीडियन सेंसर उपकरण और शरीर की विभिन्न व्याधियों का पता लगाने में इसकी खूबियों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि एलौपेथी, आयुर्वेद, होम्योपैथी और अन्य चिकित्सा पद्धतियों में शरीर के विभिन्न अंगों तथा उनकी तारतम्यता पर जोर दिया गया है। जब इनका आपसी सन्तुलन बिगड़ता है तो शरीर रोग का शिकार हो जाता है।


सिंगापुर के एक्युसेंस ग्रुप के डॉ. केन यंग ने मेरीडियन सेंसर की कार्य प्रणाली का जिक्र करते हुए कहा कि शरीर में 12 स्थान ऐसे होते हैं जो महत्वपूर्ण अंगों जैसे गुर्दे, आंत, फेफडों, लीवर, पेनक्रियाज तथा अन्य अंगों से जुड़े होते हैं और यह सेंसर इन अंगों की उर्जा तथा सूक्ष्म स्तर पर उनकी गतिविधियों की जांच करता है। इस उर्जा चक्र से जो जानकारी मिलती है उससे एक पैमाने पर मापा जाता है। अगर उर्जा पैमाने पर यह आकंड़ा एक है तो शरीर स्वस्थ है अगर एक से कम या ज्यादा है तो अंगों की कार्यप्रणाली सही नहीं है। 


डॉ. यंग ने बताया कि इस तकनीक से शरीर के अंगों की कार्यप्रणाली में बदलाव का पता लगाकर रोग की पूर्व सूचना दी जा सकती है और इसका समय रहते उपचार किया जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शरीर में ऊर्जा असंतुलन ही बीमारी का कारण