class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारत-पाक मैच में रोमांच पर बॉल आउट का तड़का

भारत-पाक मैच में रोमांच पर बॉल आउट का तड़का

चिर प्रतिद्वंदी भारत और पाकिस्तान के बीच वर्ल्ड कप का एक महत्वपूर्ण मैच और ऐसे में मैच टाई हो जाए तो रोमांच किस स्तर पर होगा इसका अंदाजा सहज ही लगाया जा सकता है। रोमांच और भी चरम पर तब पहुंच जाता है जब यह तथ्य सामने आता है कि आज तक किसी भी वर्ल्ड कप के किसी भी मैच में पाकिस्तान ने भारत को नहीं हराया और यह मैच टाई हो गया। इससे पहले भारत ने पहले बल्लेबाजी की शुरुआत की और इतने महत्वपूर्ण मैच में भारतीय ओपनर गौतम गंभीर शून्य पर पैवेलियन लौट गए और उनके पीछे-पीछे दूसरे सलामी बल्लेबाज विरेन्द्र सहवाग भी सिर्फ 5 रन बनाकर आउट हो गए। धाकड़ बल्लेबाज युवराज सिंह ने सिर्फ 1 रन बनाया लेकिन रॉबिन उत्थप्पा ने 50 रन, कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने 33 रन और हरफनमौला इरफान पठान ने 20 रन की पारी खेलकर भारत के स्कोर को 9 विकेट के नुकसान पर 141 रन तक पहुंचाया।

मैच में जीत का लक्ष्य लेकर मैदान पर बल्लेबाजी करने उतनी पाकिस्तान टीम के सलामी बल्लेबाज इमरान नजीर सिर्फ 7 रन बनाकर आउट हो गए। इसके बाद युनिस खान सिर्फ 2 रन बनाकर आउट हुए। दूसरे सलामी बल्लेबाज सलमान बट 17 रन बनाकर पैवेलियन लौट गए और कामरान अकमल 15 रन के निजी स्कोर पर रन आउट हो गए। मिस्बाह-उल-हक ने 53 रन बनाकर पारी को संभाला और कप्तान शोएब मलिक ने भी 20 रन बनाकर पारी संभालने की कोशिश्‍ा की। कोशिशें रंग लाई और पाकिस्तान ने निर्धारित 20 ओवर में 141 रन बनाए, इस तरह मैच टाइ हुआ और निर्णय बॉलआउट से हुआ। इसके तहत दोनों टीमों को अपने 6 गेंदबाज चुनने थे जिन्हें एक-एक गेंद विकेट पर अपने पूरे रनअप के साथ फेंकनी थी और जिस टीम की ज्यादा गेंदे विकेट पर लगती वह विजेता घोषित होती। भारत ने इस नियम के तहत जीत दर्ज की।


टी20 का पहला वर्ल्ड कप और पहली ही इनिंग में शतक

वर्ल्ड कप का उदघाटन मैच मेजमान दक्षिण अफ्रीका और वेस्ट इंडीज के बीच था, वेस्ट इंडीज ने पहले बल्लेबाजी करते हुए ओपनर क्रिस गेल और ड्वेन स्मिथ को मैदान में उतारा। दोनों ने पहले ही विकेट के लिए साढ़े 13 ओवर में 145 रन की साझेदारी निभा दी। यहीं ड्वेन 35 रन बनाकर गेल का साथ छोड़ गए और सैमुअल्स भी सिर्फ 6 रन बनाकर आउट हो गए। गेल ने अपनी धुंआधार पारी चालू रखी और सिर्फ 50 गेंदों में शतक पूरा किया और वे 57 गेंदों में 10 छक्कों व 7 चौक्कों की मदद से 117 रन बनाकर आउट हुए। वेस्ट इंडीज ने कुल स्कोर 205 रन का खड़ा किया।

दक्षिण अफ्रीका के कप्तान ग्रीम स्मिथ और हर्शल गिब्स के इरादे कुछ और ही थ। गिब्स ने बखूबी गेल की आतिशी पारी का जवाब दिया और अपनी 90 रन की नाबाद पारी की बदौलत वह यह मैच वेस्ट इंडीज से जीतने में सफल रहे। इस जीत में गिब्स का बखूबी साथ दिया ऑलराउंडर जस्टिन कैंप ने जिन्होंने 46 रन की नाबाद पारी खेली।


6 छक्कों ने पलट दी तकदीर की रेखा

वर्ल्ड कप का 21वों मैच, सेमीफाइनल में जगह बनाने की जद्दोजहद और सामने इंग्लैंड की चुनौती। इस मैच को भारतीय खेल प्रेमी और खासकर युवराज सिंह के प्रशंसक कभी नहीं भूल सकते। युवराज सिंह ने 18वें ओवर में अंत में अंग्रेज ऑलराउंडर एंड्रयू फ्लिंटॉफ से हुई झडप का गुस्सा 19वां ओवर डालने आए स्टुअर्ट ब्रॉड पर निकालते हुए एक के बाद एक लगातार 6 गेंदों में 6 छक्के उड़ाकर निकाला। किसी भी टी20 मैच में यह पहली बार था कि किसी बल्लेबाज ने एक ही ओवर की 6 गेंदों पर 6 छक्के मारे हों। इससे पहले भारती सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर 58 रन और विरेन्द्र सहवाग 68 रन ने सेमीफाइनल की राह आसान करने की नींव डाल दी थी। भारत ने तीन अर्द्धशतकों की बदौलत 218 रन बनाए।

जवाब में इंग्लैंड ने सधी हुई शुरुआत की और सलामी बल्लेबाज मैडी 29 रन व सालंकी 43 रन ने पहले विकेट के लिए अर्द्धशतकीय साझेदारी की। इनके बाद कैविन पीटरसन 39, पॉल कॉलिंगवुड 28, आवेश शाह 21 के अलावा अतिरिक्त 16 रन के बावजूद इंग्लैंड निर्धारित 20 ओवर में सिर्फ 200 रन ही बना पाया। इस तरह भारत को 18 रन से जीत हासिल हुई और युवराज सिंह मैन ऑफ द मैच बने।


एक और भारत-पाक मैच, वह भी वर्ल्ड कप फाइनल

भारत पाक मैचों में वैसे ही रोमांच चरम पर होता है वर्ल्ड कप का फाइनल होने की वजह से इसे और आग मिल गई, ऊपर से जिसने भी इसी वर्ल्ड कप में दोनों टीमों के खिलाफ बॉलआउट वाला मैच देखा होगा वह फाइनल न देखे ऐसा हो ही नहीं सकता था। किसी भी वर्ल्ड कप के फाइनल को जितना रोमांचक होना चाहिए यह मैच उतना ही या कहा जाए उससे भी ज्यादा रोमांचक हुआ। भारत के लिए इस मैच में युसुफ पठान ने टी20 में अपना पहला मैच खेला। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए ओपनिंग में गौतम गंभीर के साथ युसुफ को भेजा गया। सिर्फ 15 रन बनाकर युसुफ पैवेलियन लौट गए। रॉबिन उत्थप्पा 8, युवराज सिंह 14 और कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी 6 भी कुछ खास नहीं कर पाए। रोहित शर्मा ने नाबाद 30 रन बनाए। बल्लेबाजी के हीरो रहे गौतम गंभीर, उन्होंने 75 रन बनाकर टीम को सम्मानजनक स्कोर 157 रन तक पहुंचाया।

वर्ल्ड कप पर कब्जा जमाने के इरादे से पाकिस्तान के सलामी बल्लेबाज मैदान में आए। सलामी बल्लेबाज मोहम्मद हाफिज सिर्फ एक रन बनाकर पैवेलियन लौट गए। उनके बाद खेलने आए कामरान अकमल खाता भी नहीं खोल पाए और शून्य पर आउट हो गए। दूसरे सलामी बल्लेबाज इमरान नजीर ने 33 रन बनाकर संघर्ष किया, युनिस खान ने 24 रन का योगदान दिया। कप्तान शोएब मलिक सिर्फ 8 रन बनाकर आउट हो गए। बूम बूम अफ्रीदी के नाम से मशहूर शाहिद अफ्रीदी पहली ही गेंद पर बिना खाता खोले पैवेलियन लौट गए। मिस्बाह-उल-हक के इरादे बेहद खतरनाक थे और यासिर अराफात 15 और सोहेल तनवीर 12 ने उनका भरपूर साथ देने की कोशिश की। उमर गुल खाता भी नहीं खोल पाए और अंतिम खिलाड़ी मोहम्मद आसिफ, मिस्बाह के साथ मैदान पर थे। आखिरी ओवर की 6 गेंदों में पाकिस्तान को जीत के लिए चाहिए थे सिर्फ 13 रन और भारत की सिर्फ 1 विकेट। ऐसे में भारतीय कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने फ्रंटलाइन गेंदबाजों को छोड़ जोगिंदर शर्मा को गेंद थमा दी। जोगिन्दर ने पहली ही गेंद वाइड की और अब 6 गेंदों पर पाक को चाहिए थे सिर्फ 12 रन, अगली गेंद पर कोई रन नहीं बना और अब 5 गेंदों पर 12 रन चाहिए थे। इसके बाद जोगिंदर शर्मा ने गेंद डाली और मिस्बाह ने गगनचुंबी छक्का लगाकर आंकडा 4 गेंदों में 6 रन पहुंचा दिया। इसके अगली ही गेंद पर लेग गली के ऊपर से 4 रन निकालने की कोशिश में मिस्बाह ने गेंद सीधे लेग गली में खड़े श्रीशंत के हाथों में थमा दी। मिस्बाह के आउट होते ही भारत 5 रन से मैच जीतकर पहले टी20 वर्ल्ड कप पर कब्जा कर लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भारत-पाक मैच में रोमांच पर बॉल आउट का तड़का