class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बुक बिल्डिंग

बुक बिल्डिंग वह प्रणाली है जिसके अंतर्गत किसी कॉरपोरेट संस्था द्वारा शेयर जारी करने के प्रस्ताव की मांग को रखा जाता है और शेयरों की कीमत को जारी शेयरों की मात्रा के लिए निवेशकों द्वारा लगाई गई बोली के आधार पर तय किया जता है।

सीधे शब्दों में कहा जाए तो जारी करने वाली कंपनी सिक्योरिटी का मूल्य निर्धारित करते समय निवेशक से यह पूछती है कि उसे कितने शेयर चाहिए और वह इन्हें कितने मूल्य पर खरीदना चाहता है। इसकी सहायता से बाजर में शेयरों की उचित कीमत का पता लगाने की कोशिश की जाती है। व्यक्तिगत तौर पर आईपीओ के लिए बोली लगाने वाले निवेशक भी इसके लिए आवेदन कर सकते हैं।

क्या है तरीका : बुक बिल्डिंग प्रोसेस में एक ड्राफ्ट प्रस्ताव तैयार किया जता है जिस को सेबी के सामने रखा जता है। इससे जनकारी मिलती है कि इश्यू प्राइस को बुक बिल्डिंग प्रोसेस के माध्यम से निश्चित किया जएगा। इस प्रक्रिया के तहत बिड को रिसीव करने के लिए समय निर्धारित किया जाता है। समय खत्म होने पर बिड का मूल्यांकन किया जता है और दाम की घोषणा की जती है।

- बुक बिल्डिंग की सहायता से कंपनियां अपनी पूंजी बढ़ाने का काम करती है।

- अपनी पूंजी आईपीओ और एफपीओ दोनों माध्यमों से बढ़ाती हैं। पब्लिक ऑफर के लिए इसे बुक रनिंग लीड मैनेजर मैनेज करता है

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बुक बिल्डिंग