class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीन अन्य लोग जख्मी, एक घंटे सड़क जाम

दानगंज पावर हाउस के सामने शुक्रवार की सुबह साढ़े आठ बजे तेज रफ्तर पिकप वैन ने एक साइकिल में टक्कर मार दी। साइकिल पर पीछे बैठा रामआसरे (35) वैन के बोनट पर टंगा गया और उसे लिए पिकप पेड़ से जा टकराई। पिकप की रफ्तार का अंदाज इससे लगाया ज सकता है कि रामआसरे के शरीर के छोटे-छोटे टुकड़े 15 मीटर दूर तक छिटक गए। हादसे में साइकिल चला रहे राज बहादुर उर्फ मन्नू (22) के अलावा पिकप में बैठे घासी (48) और रामलखन (45) भी जख्मी हो गए।

आसपास के लोगों ने पिकप के ड्राइवर शिवपूजन को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया और राम आसरे के परिवार को मुआवज दिलाने की मांग करते हुए वाराणसी-आजमगढ़ मार्ग पर जाम लगा दिया। दो स्थानों पर एक घंटे तक जाम लगा रहा। मौके पर पहुंचे एसडीएम और सीओ पिण्डरा ने मदद का आश्वासन देकर जाम समाप्त कराया। सिहुलिया निवासी मन्नू और रामआसरे आज सुबह घर से एक बिल्डिंग मैटेरियल की दुकान पर ट्रक अनलोड करने जा रहे थे।

पावर हाउस के पास वाराणसी की तरफ जा रही पिकप वैन ने साइकिल में टक्कर मार दी। साइकिल चला रहा मुन्नू तो छिटक कर दूर जा गिरा, जबकि रामआसरे वन के बम्पर और बोनट के बीच फंस गया। पिकप सड़क से उतरकर पेड़ से जा टकराई। पेड़ और पिकप के बीच फंसे रामआसरे के चीथड़े उड़ गए। शव इतना क्षत-विक्षत हो चुका था कि उसे पहचानना मुश्किल था। टक्कर के बाद पिकप पीछे चली आई थी। आसपास के लोगों ने पुलिस को हादसे की सूचना दी, तो एसओ मौके पर पहुंचे। पूर्व प्रधान रामा यादव के नेतृत्व में ग्रामीणों ने रामआसरे के परिवार को आर्थिक सहायता देने की मांग करते हुए जाम लगा दिया।

भीड़ का कहना था कि एक सप्ताह पहले भी इसी स्थान पर हादसा हुआ था। तब मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने आर्थिक मदद का आश्वासन दिया था, जिस पर आज तक अमल नहीं हुआ। भीड़ का कहना था कि रामआसरे के घर में खाने के लिए अन्न का दाना तक नहीं है। बीती रात पड़ोस से मांग कर भोजन बना था।

उसकी पत्नी अपने दो छोटे बच्चों के साथ विलाप कर रही थी। इससे कुछ दूर सिहुलिया में भी ग्रामीणों ने जाम लगा दिया। किसी तरह समझ-बुझ कर एक घंटे बाद जाम समाप्त कराया गया। जाम के चलते सड़क पर दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतारें लग गई थीं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पिकप ने मारी टक्कर, मजदूर के चीथड़े उड़े