class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चिलचिलाती धूप हृदय रोगी के लिए घातक

हृदय रोगियों को गर्मियों में सामान्य व्यक्ति से अधिक अहतियात बरतना जरूरी है। चिलचिलाती धूप हृदय रोगी के लिए घातक हो सकती है। डॉक्टरों की मानें तो हृदय रोगियों द्वारा बरती गई जरा सी लापरवाही उनके लिए जानलेवा साबित हो सकती है।


हृदय रोग विशेषज्ञ डॉ. बलबीर सिंह ने दिल के मरीजों को चिलचिलाती धूप के साथ नमी से बचने की सलाह दी है। उनका कहना है कि इस भागदौड़ भरी जिंदगी में लोगों का अधिकतर समय घर से बाहर गुजरता है। ऐसे में जरूरी है कि वह अपने शरीर की आवश्यकता समङो। हृदय रोग से पीड़ित लोग दिन के समय घर से बाहर निकलने से परहेज करें। इस समय गर्मी सबसे अधिक होती है। गर्मी में कठिन परिश्रम करने से बचें। ढीले-ढाले सूती कपड़े पहने। इससे शरीर का तापमान सामान्य रहता है। दिन के समय अधिक मात्रा में पानी पिए। कैफीन और एल्कोहल के सेवन से बचे।


डॉ. बलबीर सिंह के अनुसार तेज बुखार, आंखों का लाल होना, त्वचा में जलन, माथे में तेज दर्द, उल्टी, चक्कर की शिकायत होने पर तुरंत डॉक्टर से मिलें। सामान्य मनुष्य का तापमान 98.6 फैरहेनाइट होता है। इससे अधिक तापमान होने पर शरीर खुद की ठंडा होने का प्रयास करता है। इसके चलते दिल की धड़कन तेज हो जाती है और रक्तचाप घट जाता है। इस परिस्थिति से बचने के लिए व्यक्ति गर्मी से अपनी हिफाजत करे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चिलचिलाती धूप हृदय रोगी के लिए घातक