class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पांच युवक गिरफ्तार, नोंकझोंक के बाद पुलिस ने पीटा

लोक निर्माण विभाग में सड़क निर्माण के लिए चल रहे टेंडर को प्रभावित करने की कोशिश कर रहे पांच युवकों की टोली शुक्रवार की दोपहर कैंट थाने की हवालात पहुंच गई। आरोप था कि कुछ खास काम के लिए ये लोग किसी को फार्म नहीं लेने दे रहे हैं। दो दिन से इनकी हरकतों से ठेकेदार सहमे थे। मौके पर पहुंचे एसपीसिटी विजय भूषण से मनबढ़ भिड़ गए, जिस पर पुलिस ने उनकी पिटाई कर दी। गिरफ्तार के बाद सफेदपोशों ने पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों पर इस कदर दबाव बनाया कि उन्होंने तहरीर देने से इनकार कर दिया।

पुलिस ने सभी का शांति भंग की आशंका में चालान कर दिया।पीडब्लूडी में इन दिनों विभिन्न स्थानों पर सड़क निर्माण के लिए तीन करोड़ का टेंडर चल रहा है। पिछले दो दिन से पांच बड़े काम का टेंडर लेने आने वालों को मनबढ़ वापस लौटा रहे थे। इनका कहना था कि चुनिंदा काम के टेंडर वे खुद लेंगे। अधिकारी और कर्मचारी सहमे थे जिससे मामला पुलिस तक नहीं पहुंचा। आज किसी ने एसपीसिटी को इसकी सूचना दी।

एसपीसिटी, सीओ कैंट और दो थानों की फोर्स दोपहर बाद पीडब्लूडी पहुंची तो वहां अफरा-तफरी मच गई। पुलिस को देख टेंडर रोकने वाले भागने लगे जिस पर उन्हें पीछाकर दबोच लिया गया। गिरफ्तार युवकों में वरुणापुल निवासी जवेद, मोहम्मद वसीम, मोहम्मद तरिक, लक्ष्मणपुर निवासी अमित कुमार और अमित राज शामिल हैं। जावेद गिरफ्तारी का विरोध करते पुलिस से भिड़ गया जिस पर उसे पीट कर जीप में लाद लिया गया।

अधिशासी अभियंता डीके बोहरा का कहना है, तीन करोड़ के टेंडर की प्रक्रिया सोमवार तक चलेगी। गिरफ्तारी के बाद लक्जरी वाहनों से कैंट थाने पर पहुंचे लोगों ने छुड़ाने के लिए दबाव बनाने का प्रयास किया लेकिन एक न चली। देर शाम तक किसी ने तहरीर नहीं दी तो पुलिस ने अपनी तरफ से पांचों युवक का चालान कर दिया। सीओ कैंट संसार सिंह ने बताया कि पकड़े गये युवकों के खिलाफ सख्त निरोधात्मक कार्रवाई की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पीडब्ल्यूडी में टेंडर रोकने पहुंचा गैंग धरा