class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हरियाणा-नोएडा के रेट नहीं लेंगे गाजियाबाद के किसान

ईस्टर्न पैरीफरेल वे के लिए जमीन अधिग्रहण के बदले नोएडा और हरियाणा जैसे रेट लेने से गाजियाबाद के किसानों ने इंकार कर दिया है। शुक्रवार को बारह गांव के किसानों के साथ हुई प्रशासन की वार्ता बिना किसी नतीजे के फिर खत्म हो गई। डीएम ने हरियाणा और नोएडा की तरह ही रेट देने की बात रखी मगर किसान इसके लिए तैयार नहीं हुए। किसान गैस अथोरिटी इंडिया लि. (गेल ) और जीडीए की तरह जमीनों के दाम दिए जाने की मांग पर अड़े हैं। प्रशासन टेंशन में है और किसानों के तेवर देखते हुए शासन से मशविरा कर रहा है।


बाजार मूल्य पर ही जमीन देने की मांग कर रहे किसानों को मनाने के लिए गाजियाबाद डीएम आर. रमेश कुमार ने किसानों के साथ नए सिरे से बातचीत की पहल की थी। ईस्टर्न पैरीफेरल वे की हद में आ रहे विहंग, रेबड़ी-रेबड़ा, मनौली, भदौली, मिलक चाकरपुर, सुल्तानपुर, नबीपुर, भिक्कनपुर, कनौज, मटियाला, इकला, इनायतपुर, आरिफपुर आदि ग्रामों के लोगों ने शुक्रवार को प्रशासन के साथ बातचीत को अपना प्रतिनिधि मंडल मुख्यालय भेजा था। बातचीत के दौरान किसानों का नेतृत्व विकास संघर्ष समिति के सचिव सलेक भैय्या ने संभाला तो प्रशासन की ओर से जिलाधिकारी की अगुआई में एडीएम फाइनेंस सर्वजीत राम, डीआईजी स्टाम्प केपी यादव, सिटी मजिस्ट्रेट उमेश मिश्रा वार्ता में शामिल हुए।


अफसरों ने किसानों से कहा कि हरियाणा में किसानों को जमीन अधिग्रहण के बदले रॉयल्टी के साथ 480 रुपये वर्ग मीट के रेट दिए हैं और नोएडा प्रशासन ने हाल ही में 850 रुपये वर्ग मीटर के दाम देने की घोषणा की है। ऐसा ही बागपत में भी होना है, इसलिए गाजियाबाद के किसानों को भी दूसरी जगहों की तरह प्रशासन की बात मान लेनी चाहिए।


किसानों ने इसका विरोध किया। किसान नेताओं का कहना था कि गेल ने गैस पाइप लाइन के लिए जो जमीन ली, उसके रेट 4400 रुपये वर्ग मीटर के दिए थे। जीडीए ने सदरपुर में जमीन ली तो किसानों को उसके बदले 1150 रुपये वर्ग मीटर के रेट दिए और साथ में विकसित एरिया में प्लाट भी दिए। मगर अब ईस्टर्न वे के लिए कम रेट की बात कहकर प्रशासन किसानों का अहित करना चाहता है। किसान कभी ऐसा नहीं होने देंगे। यदि पर्याप्त रेट नहीं मिले तो आंदोलन किया जाएगा।


कई घंटे की वार्ता के बाद भी जब कोई हल नहीं निकला तो अफसरों ने यह कहकर बातचीत स्थिगित कर दी कि शासन से बात कर जल्द ही हल खोज जाएगा। किसान नेता सलेक भय्या ने कहा कि किसान अपनी मांग पर अडिग हैं और कम रेट पर जमीन नहीं देने वाले।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:हरियाणा-नोएडा के रेट नहीं लेंगे गाजियाबाद के किसान