class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो उग्र वामपंथी संगठनों ने नेपाल में भारतीय वाहनों के जाने व फिल्मों के प्रदर्शन पर रोक लगाई

नेपाल में भारतीय विस्तारवाद के विरोध में रिवोल्यूशनरी लेफ्ट विंग व पुनर्गठित नेपाल कम्यूनिष्ट पार्टी माओवादी द्वारा भारतीय वाहनों के नेपाल में जाने और भारतीय फिल्मों के प्रदर्शन पर रोक लगाने का आन्दोलन चार जून से शुरू हो गया। यह आन्दोलन नौ जून तक चलाने की घोषणा की गई है। इस आन्दोलन के चलते भारतीय वाहनों का नेपाल में जाना बंद हो गया है।

शुक्रवार को नेपाल के नवल परासी में हरियाणा की दो ट्रकें जला दी गईं। सोनौली में वाहनों की लम्बी कतार लगी हुई है। पुनर्गठित नेपाल कम्यूनिष्ट पार्टी माओवादी के रुपन्देही के ब्यूरो संयोजक के संगम और रिवोल्यूशनरी लेफ्ट विंग के लुम्बिनी संयोजक जीतू चौधरी ने कहा कि उनके संगठनों ने इस बंद का आह्वान नेपाल के दक्षिण दाचरुला कालापानी में नेपाली भूभाग व सुस्ता में भारत के कब्जे, कालापानी में भारतीय सेना की मौजूदगी व एसएसबी द्वारा बार्डर पर नेपाली नागरिकों के साथ बदसलूकी के विरोध में किया है।

दोनों नेताओं ने कहा कि भारतीय ट्रांसपोर्टरों को चिट्ठी भेजी गई है कि वे भारतीय मालवाहक वाहनों को नेपाल में न भेजे अन्यथा सारी जिम्मेदारी उन्हीं की होगी। शुक्रवार की सुबह से ही सोनौली सीमा वाहनों की लम्बी कतार लगी हुई है। । भारत के विभिन्न प्रांतों से आए पर्यटक अपने वाहनों के साथ यहां फँसे हुए हैं। सीमा से चार किमी अन्दर तक भारतीय वाहनों की लम्बी कतार लग गई है। नेपाल में कस्टम कार्यालय पर तैनात कर्मचारी मोटरसाइकिल सवारों को भी नेपाल जाने से मना कर रहे हैं।

शुक्रवार की सुबह आँख अस्पताल भरहवाँ के पास लाठी डण्डे से लैस माओवादी संगठन के कार्यकर्ता भारतीय वाहनों को वापस भेज रहे थे। यही हाल बरमइली टोल में भी रहा। जब नेपाली पुलिस पहुँचती  तो वो भाग जते और पुलिस के जते ही फिर सड़क पर आ जते। जनकारों के अनुसार नवल परासी में भारतीय ट्रकों के फूँके जने के बाद स्थिति और बिगड़ सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:नवल परासी में दो ट्रक जलाए गए