class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बीएसएनएल की हाईटक होने की योजना फ्लॉप

सेवाओं में सुधार के लिए बीएसएनएल की हाईटक होने की योजना फ्लॉप साबित हो रही है। विभाग की ओर से डेड फोन को तत्काल ठीक करने के लिए बीएसएनएल के खंभों पर एसडीओ,जेटीओ और लाइनमेन के संपर्क नंबर का उल्लेख करने की बात थी। लेकिन यह योजना केवल कागजों तक ही सीमित रह गई है। परिणाम यह हो रहा है कि फोन डेड हुए सप्ताह बीत जाते हैं लेकिन ठीक करने के लिए कोई नहीं आता है।


 सबसे ज्यादा समस्या साहिबाबाद और लोनी के उपभोक्ताओं को हो रही है। साहिबाबाद में फोन डेड होने के दो सप्ताह बीतने के बाद भी कोई ठीक कराने की जिम्मेदारी नहीं ले रहा है। जीएम का दावा था कि उपभोक्ता की शिकायत पर या तो लाइनमैन स्वयं मौके पर आएंगे या फिर संबंधित एसडीओ फोन ठीक कराने की कोशिश करेंगे। लेकिन ऐसा हो नहीं रहा है। उपभोक्ताओं की परेशानी बरकरार है। उल्लेखनीय है कि हाल ही में कुछ जगहों के फोन काफी समय तक डेड रहने के कारण सैकड़ों उपभोक्ताओं ने विभाग में फोन सेरंडर कर दिया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बीएसएनएल की हाईटक होने की योजना फ्लॉप