class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साहिबाबाद बन रहा है मॉल्स का हब

अगले साल जब आप ट्रांस हिंडन इलाके में घुमने निकलेंगे तो मॉल्स की संख्या को देखकर दंग रह जाएंगे। कॉमनवेल्थ के मद्देजनर इंदिरापुरम,कौशाम्बी,वैशाली,वसुंधरा आदि इलाके में डेढ़ दजर्न से ज्यादा मॉल्स बन रहे हैं जो अगले वर्ष तक पूरे हो जाएंगे। कुछ मॉल्स में होटल भी तैयार किए जा रहे हैं ताकि कॉमनवेल्थ में आने वाले लोगों को ठहराया जा सके। उल्लेखनीय है कि ट्रांस हिंडन इलाके में एक दजर्न मॉल्स पहले से ही हैं जहां खरीदारी के अलावा खाने-पीने और मूवी की सुविधा उपलब्ध है।


दिल्ली में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स होने में अब दो साल से भी कम समय रह गया है। इस गेम्स में भाग लेने वाले खिलाड़ियों और दर्शकों की संख्या को देखते हुए दिल्ली सहित एनसीआर में भी मॉल्स और होटल का निर्माण किया जा रहा है। इसी के तहत गाजियाबाद में 21 मॉल्स बनाए जा रहे हैं। समय पर मॉल्स को पूरा करने के लिए निर्माण स्थल पर दिन-रात काम चल रहा है। कमरों के लिए किवाड़ और शीशा तैयार करया जा रहा है। लगभग 70 प्रतिशत पूरा हो चुके इस मॉल्स में पत्थर काम काम,घिसाई का काम,बिजली का काम,आगे की ओर जाली का काम बाकी है। साथ ही गैलरी का निर्माण और रंगाई का काम भी बचा हुआ है। मॉल्स के निर्माण से जुड़े एक कर्मचारी ने बताया कि 2010 से पहले इसे हर हाल में पूरा कर लिया जाएगा। वैशाली में असंल प्लाज के पीछे बन रहे महागुण मेट्रो मॉल्स में काफी तेजी से काम हो रहा है। वैशाली के सेक्टर-5 में ही एक ब्लू बॉटम मॉल्स का निर्माण कार्य भी प्रगति पर है। इसी तरह वसुंधरा में बन रहे बीटा मॉल्स,वीएसएल प्लाज,एक्सप्रेस मॉल्स आदि में भी काम जोरों पर है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:साहिबाबाद बन रहा है मॉल्स का हब