class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राजनीतिक फायदे के लिए सरकारी खजाने का दुरुपयोग: सीपीआई

सीपीआई ने जेपी आंदोलन सेनानी सम्मान योजना पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। पार्टी ने कहा है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार क्षुद्र राजनीतिक फायदे के लिए सरकारी खजाने का दुरुपयोग कर रहे हैं। साथ ही पार्टी ने वाम जनवादी दलों, संगठनों और आम जनता का आह्वान किया है कि सिर्फ राजनीतिक लाभ देने वाले और सरकारी खजाने का दुरुपयोग करने वाली इस योजना को रोकने के लिए आवाज बुलंद करें।

पार्टी के राष्ट्रीय परिषद के सदस्य मो. जब्बार आलम ने कहा कि राज्य सरकार गलत परम्परा की शुरूआत कर रही है। जेपी आंदोलन की तरह सैकड़ों जुझरू आंदोलन पहले ही इस प्रदेश में होते रहे है और अब भी जारी हैं। सीपीआई द्वारा 1970 में चलाया गया देशव्यापी भूमि आंदोलन कोई छोटा आंदोलन नहीं था। 1965-66 में भी ही बिहार में छात्रों का राज्यव्यापी आंदोलन हुआ था।

पुलिसिया हमले में कई जानें गईं थी और सैकड़ों घायल हुए थे। सैकड़ों पर मुकदमें हुए थे और आंदोलनकारी जेल गये थे। उसी आंदोलन के चलते 1967 में आजादी के बाद पहली बार प्रदेश में संविद सरकार बनी थी। पर उस समय महामाया बाबू की सरकार ने आंदोलनकारियों को पेंशन नहीं दिया था। जेपी आंदोलन की तरह सभी आंदोलनकारियों को पेंशन देने का निर्णय लिया जाये तो राज्य का खजाना खाली हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:क्षुद्र राजनीति कर रहे हैं नीतीशः सीपीआई